UP Panchayat Election: काउंटिंग के दिन मतगणना केंद्र पर एंट्री के लिए जानें क्या हैं निर्देश

0

UP Panchayat Election: कोरोनाकाल (Covid-19) में हुए उत्तर प्रदेश त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election) खत्म हो गए हैं। जिसकी मतगणना 2 मई को होने वाली है। मतगणना स्थल (Counting place) जाने के लिए कोविड की निगेटिव रिपोर्ट होने के राज्य निर्वाचन आयोग (State election commission) के फरमान ने उम्मीदवारों और उनके एजेंटों के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी है। सभी ब्लॉक की सीएचसी (CHC) और जिला अस्पतालों (District Hospital) में उम्मीदवार सुबह पांच बजे से ही कोविड टेस्ट करवाने के लिए लाइन लगा रहे हैं। स्वास्थय केंद्रों पर कोरोना टेस्ट (Cororna Test) करवाने के लिए दिनभर लंबी कतारें लग रही हैं।

ये भी पढ़ें-Covid-19 Vaccination: एक मई से सभी राज्यों में नहीं शुरु हो सकेगा वैक्सीनेशन

प्रत्याशियों (UP Panchayat Election) को 48 घंटे पहले उपलब्ध करानी होगी एजेंट की सूची

निर्वाचन आयुक्त (Election Commissioner) मनोज कुमार ने गुरुवार को सभी जिलों को मतगणना को लेकर निर्देश भेजे। उन्होंने कहा कि मतगणना केन्द्र पर मतगणना के दिन मेडिकल हेल्थ डेस्क (Medical health desk) खोले जाएंगे जिस पर जरूरी दवाओं के साथ डॉक्टर भी मौजूद रहेंगे साथ ही कोरोना (Coronavairus) के लक्षण जैसे बुखार, जुकाम जैसे लक्षण होने पर उसे मतगणना स्थल पर किसी को भी एंट्री की अनुमति नहीं दी जाएगी। निर्देश का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ महामारी अधिनियम (Epidemic act) के तहत कार्रवाई की जाएगी।

मतगणना केंद्र पर एंट्री (UP Panchayat Election) के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट जरूरी

मतगणना के लिए जारी विशेष निर्देश

  • सेनेटाइजर, साबुन और पानी की पर्याप्त व्यवस्था करायी जाए ताकि सभी लोगों को हाथ सेनेटाइज करने के बाद ही मतगणना हाल मे प्रवेश की अनुमति दी जाए।
  • मतगणना हाल में प्रवेश के समय सभी व्यक्तियों की थर्मल स्कैनिंग अवश्य कराई जाए।
  • मतगणना एजेंट की सूची उम्मीदवारों द्वारा मतगणना के दिन से 48 घण्टे पहले निर्वाचन अधिकारी को उपलब्ध करानी होगी।
  • किसी भी प्रत्याशी या समर्थक को विजय जुलूस निकालने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • मतपेटिकाओं और स्टील ट्रंक को भी सेनेटराइज कराना अनिवार्य होगा।
  • मतगणना कक्ष या हाल में सामाजिक दूरी, उपयुक्त वेन्टीलेशन, खिड़कियों और एक्जास्ट पंखों का प्रबन्ध राज्य आपदा प्रबन्ध के प्रोटोकाल के अनुसार अवश्य कराया जाए।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को facebook Page पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: