Gorakhpur: कलयुगी मां ने डेढ़ साल के बच्चे को पानी में डूबा कर मारा, वजह जान कर हो जाएंगे हैरान

0

Gorakhpur: कहा जाता है कि मां अपने बच्चों की सारे बलाएं अपने सिर पर ले लेती है, लेकिन गोरखपुर (Gorakhpur) के जगदीशपुर भलुआन गांव की एक कलयुगी मां ने बड़ी बहन को फंसाने के लिए अपने ही कोख से जन्मे बच्चे को मौत के घाट उतार दिय। मनोरमा नाम की औरत ने अपने डेढ़ साल के बच्चे को पानी की टंकी में डूबो कर मार डाला। मनोरमा ने बताया कि बच्चा उसे बहुत परेशान करता था, इसलिए वह अपने बेटे की जान लेकर अपनी परेशानी खत्म करने के साथ ही अपनी बहनों को फसांना चाहती थी।

गोरखपुर (Gorakhpur)में एक मां ने अपने डेढं साल के बेटे को मार डाला

गोरखपुर के गगहा थाना क्षेत्र जगदीशपुर भलुआन निवासी धर्मेन्द्र सिंह की पत्नी ने अपने डेढ़ साल के बच्चे को पानी की टंकी में बंद कर दिया, जिससे बच्चे की पानी में डूबने से मौत हो गई। मंगलवार को धर्मेन्द्र की पत्नी मनोरमा अपनी बेटी और डेढ़ साल के बेटे अनिकेत के साथ अपने मायके गई थी मंगलवार की रात में ही अनिकेत गायब हो गया। बुधवार को धर्मेन्द्र को जब बेटे के गायब होने की खबर मिली तो उसने पुलिस को मामले की सूचना दी। पुलिस ने गांव में पहुंच कर बच्चे की तलाश शुरू की। काफी खोजबीन के बाद गांव की ही पानी की टंकी में बच्‍चे का शव पड़ा मिला।

बहन को फंसाने के लिए (Gorakhpur)अपने ही बेटे को मौत के घाट उतारा

बच्‍चे के पिता धर्मेन्द्र सिंह ने पत्नी की दो बड़ी विवाहित बहनों शशि और वंदना और ससुर आनंद स्वरूप के खिलाफ बेलीपार थाने में केस दर्ज कराया। पुलिस ने तीनों को हिरासत में लिया लेकिन कोई खास सबूत हांथ नहीं लगा । आरोपियों से पूछताछ में जब पुलिस को कोई खास सफलता मिलती नजर नहीं मिली।

ये भी पढ़ें-यूपी में अवैध शराब का किया कारोबार तो लगेगा गैंगस्टर एक्ट : सीएम योगी

शक की बिनाह पर पुलिस ने मनोरमा को हिरासत में लिया और सख्‍ती से पूछताछ की, जिसके बाद मनोरमा ने बच्‍चे की हत्‍या करने की बात का खुलासा किया। मनोरमा ने पुलिस को बताया कि मंगलवार की रात में उसने ही अपने डेढ़ साल के बेटे को पानी की टंकी में डाल कर ठक्कन बंद कर दिया, जिससे बच्चे की मौत हो गई । मनोरमा ने बताया कि कि बच्चा उसे बहुत परेशान करता था, इसलिए वह अपने बेटे की जान लेकर अपनी परेशानी खत्म करने के साथ ही अपनी बड़ी बहनों को फंसाना चाहती थीं। उसकी बहनें शुरू से ही उससे दुश्मनी रखती थीं, अक्सर उसकी बेइज्जती करती रहती थीं। जब उसे पता चला कि बहनें मायके आई हैं तो वह भी मायके चली गई और उसने इस घटना को अंजाम दिया।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को facebook Page पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.