Flood in Prayagraj: खतरे के निशान से ऊपर बह रही है गंगा, यमुना, परिवारों की निकासी शुरू

0

Flood in Prayagraj:  प्रयागराज (Prayagraj) में सोमवार को गंगा और यमुना (Ganga and Yamuna) दोनों नदियों का जलस्तर खतरे के निशान (danger signs) को पार कर गया है, जिसके बाद जिला प्रशासन ने बाढ़ प्रभावित परिवारों (flood affected families) को निकालने का काम शुरू कर दिया है।

ये भी पढ़ें- Vaccine Certificate On WhatsApp: अब WhatsApp पर पाया जा सकता हैं कोरोना वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट, वो भी चंद सेकेंड में, जानिए कैसे

Flood in Prayagraj: फाफामऊ में गंगा जलस्तर 85.13, छतनाग में 84.36 मीटर तक बढ़ा

फाफामऊ (Fafamau) में गंगा का जलस्तर सोमवार सुबह 85.08 मीटर था, जबकि छतनाग में यह 84.29 मीटर था। नैनी में यमुना में जल स्तर 84.90 मीटर दर्ज किया गया। बढ़ते पानी के कारण, नदियों के तीनों बिंदुओं (जैसा कि सुबह 10 बजे दर्ज किया गया) का स्तर फाफामऊ में 85.13 मीटर और छतनाग में 84.36 मीटर तक बढ़ गया।

Flood in Prayagraj: तेजी से बढ़ रहा है यमुना का जलस्तर, कुछ इलाकों में घुसा बाढ़ का पानी

यमुना का जलस्तर 84.96 मीटर रिकॉर्ड किया गया। अधिकारियों ने बताया कि फाफामऊ में 5 सेंटीमीटर, छतनाग में 7 सेंटीमीटर और नैनी (यमुना) में 6 सेंटीमीटर की दर से जलस्तर बढ़ रहा है। स्तर में वृद्धि के साथ, गंगा नगर, नेवादा, अशोक नगर, बेली गांव, राजापुर के कुछ हिस्सों, सलोरी, बड़ा और छोटा बघारा, बद्र और सनौती, दारागंज, नागवासुकी और अन्य जैसे कुछ इलाकों में बाढ़ का पानी घुस गया है।

Flood in Prayagraj: कई इलाके बाढ़ से प्रभावित, लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रही है NDRF की टीम

बलुआघाट में यमुना किनारे बारादरी में बाढ़ का पानी पहुंच गया है। कई इलाके बाढ़ से प्रभावित हैं, इसलिए प्रशासन ने प्रभावित लोगों को सुविधाएं मुहैया कराने के लिए राहत शिविर लगाए हैं। इस बीच, राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि प्रशासन और एनडीआरएफ की टीमें स्थानीय लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के साथ ही बाढ़ के स्तर पर कड़ी निगरानी रखने में मदद कर रही हैं।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.