श्रीकृष्ण गौशाला की महिलाएं लिख रहीं आत्मनिर्भरता की इबारत

अलका लोहाटी ने इंडोनेशिया से आकर की गौशाला की शुरुआत

0
बिजनौर: कोरोना काल में जहां एक ओर लोगों के लिए रोजगार का संकट खड़ा हो गया है, वहीं उत्तर प्रदेश के बिजनौर (Bijnor) जिले में नगीना(Nagina) स्थित श्रीकृष्ण गौशाला (Sri Krishna Gaushala)में सेवा दे रहीं महिलाएं गाय के गोबर से विभिन्न उत्पाद बनाकर आत्मनिर्भरता की इबारत लिख रही हैं।
संघर्षों से भरी रही शुरुआत

श्रीकृष्ण गौशाला का संचालन इंडोनेशिया (Indonesia)  से लौटीं अलका लोहाटी (Alka Lohati) कर रही हैं। वह अपने पिता के निधन के बाद उनकी संजोयी विरासत को आगे बढ़ा रही हैं। इस गौशाला को बचाने के लिए उन्हें भूमाफियाओं से भी काफी संघर्ष करना पड़ा है। इस समय कोरोना काल के संकट में अलका गौशाला में करीब आधा दर्जन महिलाओं को रोजगार देकर उनकी जिंदगी में वह नई रोशनी भर रही हैं।

पिता के सपनों को किया साकार

अलका लोहाटी के मुताबिक उनके पिता वीरेंद्र लोहाटी ने सन् 1953 में श्रीकृष्ण गौशाला को पंजीकृत (Registered) कराया था। उन्होंने इस गौशाला को बनाने में काफी संघर्ष किया है। वर्ष 2014 में बीमारी के कारण उनका निधन हो गया। अलका बताती हैं कि वह अपने परिवार के साथ इंडोनेशिया में थीं।

“वर्ष 2015 में मैं जब भारत लौटी तो देखा कि गौशाला में भूमाफियाओं ने कब्जा कर लिया है। इसके बाद उन्होंने ठान लिया कि पिता के गौसेवा के प्रण को आगे बढ़ाना है। इसके लिए उन्होंने करीब 80 प्रतिशत जमीन भूमाफियाओं के कब्जे से छुड़ाया इसके लिए काफी संघर्ष भी करना पड़ा।

निडर होकर हौसले को किया बुलंद

कई बार जान से मारने की धमकी भी मिली उन पर हमले हुए, लेकिन उन्होंने संघर्ष नहीं छोड़ा। अब अलका लोहाटी नगीना में रहकर सिर्फ गौशाला की देखरेख करती हैं। उनके पति अभी भी इंडोनेशिया में हैं।”

गोबर से बनाए जाते है कई प्रकार के उत्पाद

अलका लोहाटी का कहना है कि वर्तमान में उनकी गौशाला में करीब 137 गोवंश हैं। इनके गोबर से कई प्रकार के उत्पाद बनते हैं। देशी गाय के गोबर से गमले, गोकाष्ठ, गोलकंडे, हवन सामग्री, गोअर्क, मच्छर भगाने वाली क्वाइल, वर्मी कम्पोस्ट, गाय के शुद्ध घी को नाक में डालने की ड्रॉप और जैविक खाद। इसके अलावा गणेश महोत्सव पर गाय के गोबर से भगवान गणेश की प्रतिमा भी तैयार की जाती है।

इसके अलावा अलका चीन को टक्कर देने के लिए गोबर से बनी राखियां भी बनाती हैं, जिसकी देश-विदेश में बहुत मांग रहती है। इस बार कोरोना संकट के कारण ज्यादा राखियां नहीं बन पाई हैं, इसके अलावा कोरोना के समय में अलका और उनकी टीम ने कूड़े में पड़ी चीजों से अच्छी-अच्छी कलाकृतियां, गमले, और पानी के फौव्वारे भी बनाएं हैं।”

महिलाओं को मिला रोजगार

अलका लोहाटी कहती हैं कि इन उत्पादों से पर्यावरण की सुरक्षा भी हो रही है। साथ ही कई महिलाओं को रोजगार भी मिला हुआ है। गोबर से बने बहुत सारे उत्पाद देश के विभिन्न हिस्सों में बिक रहे हैं।

यहां दो महिलाएं गीता रानी और गीता देवी को गाय के दूध निकालने के काम में लगाया गया है। इसके अलावा प्रेमावती यहां की सफाई व्यवस्था देखती हैं। अलका बताती हैं कि यहां पर लगी महिलाएं बड़े आराम से 6000 रुपये के आस-पास हर महीने कमा लेती हैं, जिससे उनका घर चल जाता है।

गौशाला में हैं कई दुर्लभ नस्ल की गाएं

श्रीकृष्ण गौशाला में करीब 137 गोवंश हैं, जिनमें देशी गायों और उनके बछड़ों की संख्या अधिक है। इसके अलावा 21 लालसींगी गाय हैं, जिनके संरक्षण के लिए विशेष प्रकार की व्यवस्था की गई है।अलका ने बताया, “लालसींगी गाय उत्तर प्रदेश में कहीं और बिल्कुल नहीं है। ओरिजनल गायें हमारी ही गौशाला में हैं।”

बिजनौर के मुख्य पशु चिकित्साधिकारी भूपेंद्र सिंह का कहना है कि श्रीकृष्ण गौशाला में लालसींगी गायों के संरक्षण का कार्य अच्छी तरह से हो रहा है। गौशाला में गोबर और गौमूत्र से कई उत्पाद भी बन रहे हैं। इसके माध्यम से कई महिलाओं को रोजगार उपलब्ध कराया गया है।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: