ये क्रिकेट बाॅल बनेगी ‘गेम चेंजर’, जानिए क्या है विशेष

बिना थूक या लार के भी चमक रहेगी बरकरार

0
जालंधर के मिस्त्री राम एंड संस कंपनी (Mistry Ram & Sons Company) ने ऐसी किकेट बाॅल (Cricket ball) तैयार की है, जिसे चमकाने के लिए अब थूक लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी के कारण गेंद पर गेंदबाजों द्वारा थूक लगाए जाने पर आइसीसी के प्रतिबंध के मद्देनजर यह बॉल तैयार की गई है। ऐसे में यह गेंद मैदान पर ‘गेम चेंजर’ साबित हो सकती है। फिलहाल इस गेंद को क्रिकेट के फटाफट फार्मेट टी-20 के लिए बनाया गया है और वनडे व टेस्ट क्रिकेट के लिए प्रयास जारी है।

कैसे बनी है यह खास बाॅल

इस क्रिकेट बाॅल में ज्यादा वैक्स का इस्तेमाल करके चमक की समस्या का समाधान निकाला गया है। सामान्य बॉल 16-17 दिनों के प्रोसेस के बाद तैयार होती है जबकि अतिरिक्त वैक्स वाली बॉल को तैयार करने में दो दिन ज्यादा लगते हैं।

बॉल के लिए लेदर को प्रोसेस करने के बाद उसके अंदर की तरफ हल्का ऑयल व ज्यादा वैक्स लगाकर उसे सुखाया जाता है फिर कॉर्कवुड अंदर डालकर हाथ या मशीन से स्टिच (सिलाई) किया जाता है।

गेंदबाजों के लिए मददगार

गेंद पर ज्यादा वैक्स लगा होने के कारण खेलते समय गेंद के ऊपर वैक्स आता रहता है और 20 से 25 ओवरों तक उसकी चमक (शाइनिंग) खराब नहीं होती है। अगर इस गेंद का इस्तेमाल अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैचों में होता है तो गेंदबाजों को थूक लगाने की जरूरत नहीं होगी।

हालांकि अंतरराष्ट्रीय मैचों में इसके इस्तेमाल का अंतिम फैसला ICC और IPL के लिए BCCI की कमेटी करेगी। अगर इसे अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए क्लीन चिट नहीं भी दी जाती है तो भी कोरोना के चलते सूने पड़े दुनिया भर के घरेलू क्रिकेट के मैदानों को जरूर गुलजार करने में यह मददगार साबित होगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: