भोले शंकर पर चढ़ा आज़ादी का रंग, तिरंगे से हुआ श्रृंगार

मनकामेश्वर मंदिर में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया आज़ादी का पर्व

0

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित मनकामेश्वर मंदिर के भगवान शंकर का श्रंगार राष्ट्रध्वज तिरंगे से हुआ। स्वतंत्रता दिवस में भगवान पर भी आजादी का रंग चढ़ गया है।

मंदिर प्रशासन का मानना है कि राष्ट्र रक्षा के लिए सदियों से संघर्ष करते चले आ रहे संत मुनियों ने सदैव ही राष्ट्र के निर्माण का काम किया है। राष्ट्र आराधना का यह व्रत अनंत काल तक चलाने के लिए सभी देवी देवताओं का श्रृंगार राष्ट्रीय पर्व के अवसर पर राष्ट्रध्वज से होना चाहिए।

मनकामेश्वर मंदिर की महंत दिव्या गिरी ने मीडिया से बातचीत में बताया, “भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण दिवस आज है। मन की स्वतंत्रता के लिए तिरंगे के रंग बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। तीनों रंग का प्रयोग भगवान शिव के पूजन में होता रहता है। सावन में हरे रंग का बेल पत्र और केसरिया रंग के फूल और सफेद रंग के भष्म से पूजा होती है। तीन रंगों को मंदिरों में हमेशा से प्रयोग होता रहता है।”

उन्होंने कहा कि धार्मिक संस्थान ने इस पर्व को अच्छे से मनाने के लिए यह एक संदेश दिया है। संत. महंत और पुजारी इस पर्व को और भव्यता के साथ मनाएं, इसी कारण भोले शंकर का  श्रृंगार तिरंगे से किया गया है। आने वाले श्रद्धालु भी इससे शिक्षा लेंगें, वह भी अपने राष्ट्रीय पर्व का महत्व समझेंगे। इस कोरोना काल में हमारे मंदिर में दो गज की दूरी के साथ राष्ट्रगान का भी आयोजन किया गया है।

मंहत ने कहा कि 15 अगस्त या 26 जनवरी को जिस प्रकार सारे संस्थान मनाते है। वैसे ही धार्मिक लोग संत, महंत और अन्य लोगों को भी बड़े उल्लास के साथ मनाना चाहिए। राष्ट्रीय पर्वो का इतिहास में बहुत महत्व है। भारत ने काफी कुर्बानियां देकर इस आजादी को प्राप्त किया है। अपने देश के गौरव के लिए ऐसे त्यौंहारों को हमेशा बढ़-चढ़कर मनाना चाहिए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: