Backwards card in Assembly Election: विधानसभा चुनाव 2022 से पहले सपा ने खेला बैकवर्ड कार्ड, निषाद वोटरों पर नजर

0

Backwards card in Assembly Election: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में होने वाले विधानसभा चुनाव 2022 (assembly election 2022) का बिगुल बज चुका है। सियासी पार्टियां अपनी-अपनी बिसात बिछाने में जुटी हुई हैं। इन बिसातों में अहम भूमिका है जाति और धर्म की। राजनीतिक दलों के बीच पहले ब्राह्मण वोटर फिर दलित और अब निषाद समाज को लेकर संग्राम जारी है। निषाद समाज को साधने के लिए सबसे पहले पासा फेंका है समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने।

येे भी पढ़ें- Pradhanmantri Ujjwala Yojana 2.0: प्रधानमंत्री आज करेंगे उज्जवला योजना के दूसरे चरण की शुरुआत

Backwards card in Assembly Election

Backwards card in Assembly Election: निषाद समाज को साधने के लिए सपा ने फूलन देवी किया याद

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने 2022 विधानसभा चुनाव से बैकवर्ड कार्ड (backward card) खेला है। निषाद समाज (Nishad Samaj) को साधने के लिए ये कवायद शुरू की गई है। फूलन देवी (Phoolan Devi) के जन्मदिन के बहाने निषाद वोटरों पर सपा की नजर है। चुनाव से पहले निषाद समाज को लुभाने में लगी सपा ने फूलन देवी को याद किया और पिछड़ों को जोड़ने की मुहिम को भी रफ्तार दी।

सपा ने भव्य तरीके से फूलन देवी का जन्मदिन कार्यक्रम आयोजित किया। कार्यक्रम में सपा पिछड़ा वर्ग के प्रदेश अध्यक्ष और एमएलसी राजपाल कश्यप हुए शामिल। इस दौरान सपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने उनका भव्य स्वागत किया। राजपाल कश्यप ने बीजेपी और आरएसएस पर हमला बोलते हुए पीएम मोदी और सीएम योगी पर भी निशाना साधा।

Backwards card in Assembly Election: सपा ने की जातिगत समीकरण साधने की कोशिश

2022 के विधानसभा चुनाव से पहले हर पार्टी अपने वोटरों और जातिगत समीकरण को साधने में लगी है। कोई ब्राह्मण कार्ड खेल रहा है, तो कोई जातिगत समीकरण को साधने के लिए बैकवर्ड कार्ड खेल रहा है। ऐसे में समाजवादी पार्टी ने पिछड़ों को साधने की कवायद शुरू कर दी है। सपा पिछड़ा वर्ग के प्रदेश अध्यक्ष राजपाल कश्यप को इस इस बार निषाद समाज के साथ-साथ पिछड़ों को साधने और एक करने की बागडोर दी गई है।

Backwards card in Assembly Election: बीजेपी पर साधा निशाना

राजपाल कश्यप की खास निगाह निषाद समाज पर लगी हुई है। कश्यप आज कानपुर देहात पहुंचे और फूलन देवी के जन्मदिन पर सपा के जिला कार्यालय में आयोजित भव्य जन्मदिन कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने बीजेपी सरकार और आरएसएस पर जमकर हमला बोला। साथ ही पीएम मोदी से लेकर योगी आदित्यनाथ को भी कई मुद्दों पर घेरा। कश्यप ने बीजेपी और आरएसएस पर अंग्रेजों की तरह फूट डालो राज करो की नीति अपनाने का आरोप लगाया।

Backwards card in Assembly Election: हिन्दू और मुस्लिम के बीच फूट डालने का काम करती है बीजेपी

जैसे-जैसे 2022 विधानसभा का चुनाव नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे समाजवादियों ने चुनावी समीकरण की गणित को हल करने का काम शुरू कर दिया है। जिसके चलते सबसे बड़े वोटर खेमे पिछड़ा वर्ग पर सपा की नजर पड़ी और उसे साधने का काम शुरू हुआ। जिसकी जिम्मेदारी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष और एमएलसी राजपाल कश्यप को दी गई है।

इसी के चलते पूर्व सांसद और दस्यु सुंदरी फूलन देवी के जन्मदिन पर राजपाल कश्यप ने कानपुर देहात के समाजवादी पार्टी के कार्यालय में आकर लोगों को संबोधित किया। जिसमें उन्होंने बीजेपी और आरएसएस पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि बीजेपी और आरएसएस लगातार अग्रेजों की तरह हिन्दू और मुस्लिम को आपस में लड़वाने का काम करती आ रही है. बीजेपी और आरएसएस के नेता खुद अपनी बेटियों की शादी मुस्लिमों के परिवार में कर के बैठे हैं।

Backwards card in Assembly Election: 2022 में सपा की बनेगी सरकार

अपने संबोधन के दौरान राजपाल कश्यप ने सरकार को पूरी तरह से विफल बताया। उन्होंने कहा कि कोरोना,बाढ़ में पूरी तरह से बीजेपी सरकार विफल साबित हुई है। लोग मर रहे हैं जनता को खाना, दवाई सुविधाएं कुछ भी नहीं मिल रहा है, इसका जवाब जनता 2022 में इनसे लेगी और इनको सत्ता से बाहर कर देगी।

हर समाज का साथ 2022 में समाजवादी पार्टी को मिलेगा और अखिलेश यादव यूपी के मुखिया बनेंगे। जब यूपी के मुखिया अखिलेश होंगे तो लोगों को हर तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराने का काम तेजी से किया जाएगा। बीजेपी सरकार में केवल गरीबों पिछड़ों और अल्पसंख्यकों का शोषण हुआ है और बीजेपी सरकार से पीड़ित सभी वर्ग 2022 में बीजेपी को सत्ता से बेदखल कर बदला लेंगे।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.