Pradhanmantri Ujjwala Yojana 2.0: प्रधानमंत्री आज करेंगे उज्जवला योजना के दूसरे चरण की शुरुआत

0

Pradhanmantri Ujjwala Yojana 2.0:  प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, केंद्र सरकार (central government) की महत्वाकांक्षी योजनाओं (ambitious plans) में से एक है। इस योजना का लाभ ग्रामीण महिलाओं को दिया जा रहा है। उज्जवला योजना (Ujjwala Yojana )का प्रथम चरण काफी सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ।

ये भी पढ़ें- IPS Officers Transfer: यूपी में 9 जिलों के SP समेत 14 IPS अफसरों के ट्रांसफर, जानिए किसको कहां मिला चार्ज

आज पीएम नरेंद्र मोदी महोबा जिले से ‘प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना’ के दूसरे चरण की शुरुआत करेंगे। आज दोपहर साढ़े 12 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मोदी महोबा में लाभार्थियों को एलपीजी कनेक्शन सौंपेंगे। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ महोबा में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होंगे। कार्यक्रम के दौरान, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों से बातचीत करेंगे और राष्ट्र को संबोधित भी करेंगे।

Pradhanmantri Ujjwala Yojana 2.0: दूसरे चरण के लाभार्थियों को मिलेगा ऑनलाइन प्रमाण पत्र

मोदी उज्ज्वला योजना के दूसरे चरण के 10 लाभार्थियों को ऑनलाइन प्रमाण पत्र भी प्रदान करेंगे. प्रवक्ता ने बताया कि वह इस योजना के पहले चरण के विभिन्न राज्यों के पांच लाभार्थियों के साथ ऑनलाइन माध्यम से बातचीत भी करेंगे।

Pradhanmantri Ujjwala Yojana 2.0: उज्जवला योजना के प्रथम चरण में राज्य में कुल 1,47,43,862 LPG कनेक्शन दिये गए

एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि ‘प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना’ के प्रथम चरण में राज्य के गरीब परिवारों को कुल एक करोड़ 47 लाख 43 हजार 862 एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं। प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री एवं केन्द्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी महोबा की पुलिस लाइन के परेड मैदान में आयोजित जैव ईंधन प्रदर्शनी की भी शुरुआत करेंगे।  इस चरण में लाभार्थियों को पहली रिफिल मुफ्त में उपलब्ध कराने के साथ ही चूल्हा भी मुफ्त प्रदान किया जाएगा।

Pradhanmantri Ujjwala Yojana 2.0 2016 में हुई ‘उज्जवला योजना’ की शुरुआत

साल 2016 में शुरू किए गए उज्ज्वला योजना के दौरान गरीबी रेखा से नीचे वाले परिवारों की 5 करोड़ महिला सदस्यों को एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया था। अप्रैल 2018 में इस योजना का विस्तार किया गया और इसमें सात और श्रेणियों (अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति, पीएमएवाई, एएवाई, अत्यंत पिछड़ा वर्ग, चाय बागान, वनवासी, द्वीप समूह) की महिला लाभार्थियों को शामिल किया गया। इसके लक्ष्य को संशोधित कर 8 करोड़ एलपीजी कनेक्शन कर दिया गया। इस लक्ष्य को निर्धारित तिथि से सात महीने पहले अगस्त 2019 में ही हासिल कर लिया गया था।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.