21वीं सदी के नए भारत की बुनियाद बनेगी नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति- पीएम मोदी

नई शिक्षा नीति के तहत परिवर्तनकारी सुधारों पर बोले पीएम

0

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने नई शिक्षा नीति (New education policy) पर कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 21वीं सदी के नए भारत की बुनियाद (Foundation) तैयार करने वाली है। 21वीं सदी के युवाओं को जिस तरह के एजूकेशन की जरूरत है, राष्ट्रीय नीति में सभी बातों पर विशेष फोकस है।

प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग (Video Conferencing) के जरिए ‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति (National Education Policy) के तहत उच्च शिक्षा में परिवर्तनकारी सुधारों’ पर आयोजित सम्मेलन में उद्धाटन भाषण देते हुए कहा कि भारत को ताकतवर बनाने के लिए इस एजूकेशन पॉलिसी में खास जोर दिया गया है।

नई शिक्षा नीति से आने वाली पीढ़ियों का भविष्य होगा तैयार

मानव संसाधन विकास मंत्रालय और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, जहां तक राजनीतिक इच्छाशक्ति की बात है तो मैं नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हूं। हर देश अपने राष्ट्रीय मूल्यों के साथ एजूकेशन सिस्टम में आगे बढ़ता है। शिक्षा नीति ऐसी होनी चाहिए जो वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों का भविष्य तैयार करे। भारत की नेशनल एजूकेशन पॉलिसी का आधार भी यही सोच है।

व्यापक विचार विमर्श और मंथन के बाद मिली स्वीकृति

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अलग-अलग पहलुओं पर जितनी ज्यादा स्पष्ट जानकारी होगी, उतना ही आसान इस राष्ट्रीय शिक्षा को लागू करना भी होगा। तीन, चार साल के व्यापक विचार विमर्श और लाखों सुझावों पर लंबे मंथन के बाद राष्ट्रीय शिक्षा नीति को स्वीकृत किया गया। इस पर देश भर में व्यापक चर्चा हो रही है। अलग-अलग विचारधाराओं के लोग, अपने विचार दे रहे हैं, शिक्षा नीति की समीक्षा कर रहे हैं। बहस जितनी ज्यादा होगी, उतना ही लाभ शिक्षा व्यवस्था को मिलेगा।

सालों से चली आ रही शिक्षा नीति में बदलाव

पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद देश के किसी भी क्षेत्र, वर्ग से यह बात नहीं उठी कि इसमें किसी तरह का झुकाव है।
उन्होंने कहा, “यह एक संकेत भी है कि लोग बरसों से चली आ रही एजूकेशन सिस्टम को बदलाव चाहते थे। वैसे कुछ लोगों के मन में सवाल आना स्वाभाविक है कि इसे जमीन पर कैसे उतारा जाएगा? अब सभी की निगाहें इसे लागू करने की तरफ है। इस चैलेंज को देखते हुए जहां कहीं सुधार की आवश्यकता है, उसे हम सब को मिलकर करना ही है।”

प्रधानमंत्री मोदी ने शिक्षाविदों से अपील करते हुए कहा, राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने में सीधे तौर पर जुड़ें। आप सबकी भूमिका बहुत ज्यादा है।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: