शोर से बचें क्योंकि यह भारी नुकसान पहुंचाता है

0

बहरापन तब हो सकता है जब कान का कोई हिस्सा या आपके मस्तिष्क तक ध्वनि जानकारी पहुंचाने वाली नसें सामान्य रूप से काम नहीं करती हैं।

आजकल हम हर समय शोर से घिरे रहते हैं जैसे ट्रैफिक का शोर, सायरन, लाउड टीवी, निर्माण का शोर आदि, यह शोर सुनने की क्षमता को नुकसान पहुंचा सकता है जिससे आप आसपास की आवाज़ सुनने में असमर्थ हो जाते हैं।

आउट-ऑफ-टॉलरेंस शोर अक्सर इतने तेज होते हैं कि वे पृष्ठभूमि में दिखाई देते हैं। समस्या यह है कि तेज आवाज सुनने पर गंभीर और स्थायी प्रभाव डालती है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के एक अध्ययन के अनुसार, 20 से 69 आयु वर्ग के 17 प्रतिशत अमेरिकी (लगभग 2.6 मिलियन लोग) शोर-प्रेरित श्रवण हानि से पीड़ित हैं।

जब अमेरिका जैसे विकसित देश में संक्रमित लोगों की यह दर है, तो हमारे विकासशील देश में इसके कई गुना अधिक होने की संभावना है।

मिशिगन में सेंट जोसेफ मर्सी हेल्थ सिस्टम के एक ओटोलरीन्गोलॉजिस्ट, एमडी, जोसेफ सेमुर कहते हैं, “सुनने की हानि का सबसे आम कारण उम्र बढ़ना है, इसके बाद शोर से प्रेरित सुनवाई हानि होती है।” यह एक ऐसी समस्या है जिसका सामना अक्सर करना पड़ता है।

श्रवण एक अत्यंत जटिल कार्य है जो आश्चर्यजनक रूप से नाजुक भी है। हमारे कान के अंदर की कोशिकाएं त्वचा की कोशिकाओं से अलग होती हैं। एक बार नष्ट हो जाने के बाद ऊनि दुबारा मरम्मत नहीं हो सकती।

कान के अंदर हजारों कोशिकाएं ध्वनि तरंगों को विद्युत संकेतों में बदलने और उन्हें आपके मस्तिष्क में भेजने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, जहां उन्हें ध्वनि के रूप में माना जाता है।


अत्यधिक शोर आपके बालों की कोशिकाओं, त्वचा, तंत्रिकाओं के साथ-साथ आपके कानों और सुनने को भी नुकसान पहुंचा सकता है।शोर-प्रेरित श्रवण हानि लंबे समय तक तेज आवाजों के संपर्क का परिणाम हो सकती है।


बहुत तेज आवाज इन कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है या नष्ट भी कर सकती है। इसके अलावा, श्रवण तंत्रिका, जो विद्युत संकेतों को प्रसारित करती है, तेज आवाज से भी क्षतिग्रस्त हो सकती है।

शोर-प्रेरित श्रवण हानि लंबे समय तक तेज आवाजों के संपर्क का परिणाम हो सकती है, जैसे दिन में घंटों ट्रैक्टर की सवारी करना, रेलवे स्टेशन के पास लंबे समय तक रहना या तेज आवाज के साथ हेडफोन पहनना। साथ ही, एक बहुत तेज आवाज जैसे विस्फोट या बंदूक की गोली भी सुनवाई को नुकसान पहुंचा सकती है।

अत्यधिक शोर आपके बालों की कोशिकाओं, त्वचा, तंत्रिकाओं के साथ-साथ आपके कानों और सुनने को भी नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे सुनने में अस्थायी या स्थायी हानि हो सकती है।
लेकिन अच्छी खबर यह है कि कुछ सावधानियां बरतकर शोर-शराबे से होने वाली श्रवण हानि को रोका जा सकता है, जैसे कि तेज आवाज के लंबे समय तक संपर्क से बचना और यदि यह संभव नहीं है, तो कानों की सुरक्षा के लिए कपास का उपयोग करना।

Leave A Reply

Your email address will not be published.