सैन्य प्रमुख जनरल नरवणे 4 नवंबर को नेपाल का करेंगे दौरा

नेपाल द्वारा एक नया राजनीतिक नक्शा जारी किए जाने के बाद दोनों देशों के बीच संबंधों में तनाव आ गया है। इसके बाद से भारत की ओर से यह पहला उच्च स्तरीय दौरा है।

0

काठमांडू: नेपाल के साथ रक्षा, सुरक्षा और समग्र संबंधों को मजबूत करने के इरादों से भारतीय सेना के प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे 4 नवंबर को तीन दिवसीय दौरे पर नेपाल पहुंचेंगे। नेपाली सेनाध्यक्ष जनरल पूर्ण चंद्र थापा के निमंत्रण पर, भारतीय सेना प्रमुख नेपाल का दौरा करेंगे।

ऐसे समय में जब नेपाल-भारत के संबंध पिछले साल नवंबर से शुरू हुए सीमा विवाद के कारण सर्वकालिक निम्न स्तर पर पहुंच गए हैं, सैन्य प्रमुख नरवणे का यह दौरा महत्वपूर्ण है।

नेपाल द्वारा एक नया राजनीतिक नक्शा जारी किए जाने के बाद दोनों देशों के बीच संबंधों में तनाव आ गया है। इसके बाद से भारत की ओर से यह पहला उच्च स्तरीय दौरा है। बता दें कि नेपाल के इस नए नक्शे में भारतीय सीमा से लगे लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा को दिखाया गया है।

हालांकि यह क्षेत्र हमेशा से ही भारत का हिस्सा रहा है। सेना प्रमुख नरवणे रक्षा क्षेत्र सहित समग्र संबंधों को मजबूत बनाने के उद्देश्य से इस यात्रा पर जा रहे हैं।

यात्रा के दौरान काठमांडू में एक समारोह में नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी द्वारा जनरल नरवणे को जनरल ऑफ द नेपाल आर्मी की मानद रैंक से सम्मानित किया जाएगा।

नेपाल और भारत में 1950 से एक दूसरे के सेना प्रमुख को मानद उपाधि प्रदान करने की एक ऐतिहासिक परंपरा रही है। नेपाल सेना लंबे समय से रियायती मूल्य में भारत से घातक हथियारों सहित सैन्य हार्डवेयर खरीदती है।

जनरल नरवणे अपनी यात्रा के अंतिम दिन प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री केपी शर्मा ओली से मुलाकात करेंगे।

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: