बेरोजगारों को ताली और थाली बजाने का आइडिया कहाँ से आया

5 सितंबर 5 बजे को बेरोजगारों की मुहिम है ताली और थाली बजाने की

0

बेरोजगारी- पिछले कुछ दिनों से ट्विटर पर एक हैशटैग बहुत ट्रेंड कर रहा है #5sept5baje। इस हैशटैग के पीछे की कहानी यह है कि कुछ दिनों से सोशल मीडिया में जीडीपी (GDP) और नौकरी का मसला उछलने लगा तो तमाम बेरोजगारों ने यह तरीका निकाला कि 5 सितंबर को 5 बजे ताली और थाली बजायेंगे। इसके पीछे तर्क यह दिया कि जब कोरोना के चलते लॉकडाउन (Lockdown) हुआ था तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी 5 मिनट तक ताली और थाली (Taali aur Thali) बजाने का आह्वान किया था। इसलिए बेरोजगारों (Unemployed youth) ने भी कहा कि सरकार को बेरोजगारी से रूबरू करने के लिए उसी की भाषा में जगाने का समय है।

 

कुछ दिनों से बेरोजगारी (unemployment) पर और काफी समय से लंबित तमाम विभागों के रिक्त पदों के परीक्षाओं और एसएससी SSC के लंबित रिजल्ट की मांग को लेकर लगातार बेरोजगार युवा सोशल मीडिया पर ऑनलाइन प्रदर्शन (online protest) कर रहे हैं और सरकार के खिलाफ अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं। इसी मुहिम के चलते बेरोजगार युवाओं ने आज 5 सितंबर को 5:00 बजे 5 मिनट तक ताली और ताली बजाने का आह्वान किया है।

बेरोजगार युवाओं की इस मुहिम में कई विपक्षी नेता भी अपना समर्थन दे रहे हैं। पिछले दिनों यह देखा गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यूट्यूब पर ‘मन की बात’ वाली वीडियो पर बहुत सारे डिसलाइक आ गए थे। उसके बाद यह कहा जा रहा था कि यह बेरोजगार युवाओं और छात्रों ने अपना विरोध दर्ज कराया है। इसी बात पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुटकी लेते हुए कहा कि “वह आपका डिसलाइक और कमेंट बंद कर सकते हैं आपकी आवाज नहीं, इसलिए आवाज उठाते रहिए”। राहुल गांधी ने यह ट्वीट आरआरबी RRB एग्जाम डेट के संदर्भ में किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: