Z plus security for Ram Rahim: रेप के दोषी राम रहीम को आखिर क्यों मिली Z+ सुरक्षा, जानें, क्या होती है जेड प्लस सुरक्षा

0

Z plus security for Ram Rahim: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को हरियाणा की एक जेल से‘फरलो पर 21 दिनों की रिहाई के दौरान जेड प्लस सुरक्षा दी गयी है। अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राम रहीम को सात फरवरी को रिहा होने के बाद उच्च श्रेणी की सुरक्षा दी गयी थी।

ये भी पढ़ें-अंधभक्ति, राजनीति और वर्ण-व्यवस्था का कॉकटेल है ‘आश्रम’

Z plus security for Ram Rahim

Z plus security for Ram Rahim- राम रहीम को है खालिस्तान समर्थकों से है खतरा

आपको बता दें कि जेल से रिहा होने के बाद रहीम की जान को ”खालिस्तान समर्थक” तत्वों से खतरा है। हरियाणा पुलिस के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी द्वारा  यह जानकारी दी गयी ‘यदि कैदी को पैरोल  पर रिहा किया जाता है, तो मौजूदा नियमों के अनुसार जेड-प्लस सुरक्षा प्रदान की जा सकती है, क्योंकि कैदी को भारत और विदेशों में कट्टरपंथी सिख चरमपंथियों से उच्च स्तरीय खतरा है।

Z plus security for Ram Rahim:  कैदी को जान का खतरा होने पर दी जा सकती है जेड प्लस सुरक्षा

पंचकुला में आयोजित एक कार्यक्रम में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा कि अगर किसी व्यक्ति को जान से मारने की आशंका के आधार पर सुरक्षा दी जाती है। एक कैदी चाहे वह जेल में हो या ‘फरलो’ पर बाहर हो, उसको अगर खतरा है तो सरकार का कर्तव्य है कि उसे सुरक्षा मुहैया कराए।

बता दें कि  गुरमीत राम रहीम ने जेड प्लस कि सुरक्षा मांगी नहीं थी, लेकिन जब तक उसे खतरे की आशंका है, तब तक सुरक्षा देना हमारा कर्तव्य है।

Z plus security for Ram Rahim: जानें क्या होती है फरलो?-

फरलो की सुविधा उसी कैदी को प्राप्त होती है जो कैदी अपनी सजा के तीन साल पूरे कर चुका हो। वहीं पैरोल तब  दी जाती है जब कैदी की सजा एक साल पूरी हो चुकी हो। इसमें शर्त यह भी होती है कि कैदी का चाल-चलन और आचरण उन एक साल में जेल के भीतर ठीक रहा हो।

Z plus security for Ram Rahim:  क्या होती है जेड प्लस सुरक्षा, किसे दी जाती है ये सुरक्षा-

Z + सिक्योरिटी ज्यादातर केंद्र सरकार के मंत्री, मुख्यमंत्री, सुप्रीम कोर्ट व हाईकोर्ट के न्यायाधीश, मशहूर राजनेता व बड़े ब्यूरोक्रेट्स को मुहैया कराई जाती है। जिसमें 36 सुरक्षाकर्मी अत्याधुनिक हथियारों के साथ सेवा में तैनात किए जाते हैं।  इसमें तीन घेरे में सुरक्षा की जाती है। पहले घेरे में एनएसजी सुरक्षा में लगाए जाते हैं, इसके बाद एसपीजी के अधिकारी तैनात किए जाते हैं और तीसरे घेरे में आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान भी सुरक्षा में लगाए जाते हैं।

Z plus security for Ram Rahim: सीबीआई कोर्ट ने राम रहीम समेत चार को उम्रकैद की सजा सुनाई है

बता दें कि रंजीत सिंह हत्याकांड मामले में पंचकूला की CBI कोर्ट ने कुछ दिनों पहले डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम और अन्यत चार दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है।  इस मामले में डेरा सच्चात सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सहित चार अन्य को दोषी ठहराया गया था।

इस मामले में सजा का ऐलान पहले 12 अक्टूहबर 2017 को किया जाना था लेकिन कोर्ट ने अपना फैसला 18 अक्टूबर 2017 तक के लिए सुरक्षित रख लिया था, लेकिन  सीबीआई की विशेष  कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम  और चार अन्य पर डेरा के पूर्व प्रबंधक रंजीत सिंह की हत्या के मामले में IPC की धारा 30,  376, 511 और 506 धारा के तहत केस चल रहा था।  25 अगस्त 2017 को पंचकूला में सीबीआई कोर्ट ने रामरहीम को दोषी ठहराया था।

Z plus security for Ram Rahim: सीबीआई की विशेष अदालत ने राम रहीम को रेप केस में दोषी करा दिया था

25 अगस्त 2017 को पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत ने डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को रेप केस में दोषी करार दिया। जिसकी वजह से पंचकुला और सिरसा मेँ दंगे हुए और प्रशासन की कार्रवाई से सरकारी आकड़ोँ के अनुसार 38 लोगों की मौत की सजा पर फैसला 28 अगस्त 2017 को आया। जिसमें न्यायालय ने उन्हें 20 साल जेल व 30 लाख रुपए जुर्माना की सजा सुनाई

सीबीआई की विशेष अदालत ने डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को दो महिलाओं से रेप मामले में 20 साल की जेल की सजा सुनाई। आपको बता दें कि रेप के आरोप में धारा 376 के तहत मुकदमा चलाया जाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.