क्या थी स्वर्गीय रघुवंश प्रसाद सिंह की अंतिम इच्छा

गणित के प्रोफेसर से भारत के केंद्रीय मंत्री तक का सफर तय करने वाले रघुवंश प्रसाद सिंह सही मायनों में समाजवादी थे।

0

राष्ट्रीय जनता दल RJD में लालू प्रसाद (Lalu prasad) के सबसे करीबी और बिहार के कद्दावर नेता रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuvansh prasad Singh) का रविवार को निधन हो गया । रघुवंश जैसे समाजवाद के असली पुरोधा के निधन से ना सिर्फ बिहार अपितु पूरे भारत में शोक की लहर है ।

 

स्वर्गीय रघुवंश प्रसाद सिंह ने 11 सितंबर को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के नाम एक चिट्ठी लिखी थी जिसके जरिए उन्होंने अपनी तीन मांगों को रखा था –

1. मनरेगा कानून के अंतर्गत अब तक सिर्फ सरकारी और sc-st जमीनों में काम होता था । उस खंड में आम किसानों की भी जमीन जोड़ दी जाए।

2. वैशाली (Vaishali) जनतंत्र की जननी है और विश्व का पहला गणतंत्र है। सरकार ने अब तक इसके लिए कुछ नहीं किया है। रघुवंश ने चिट्ठी के जरिए मांग की है बिहार के राज्यपाल 15 अगस्त और 26 जनवरी को वहां झंडोत्तोलन करें।

3. भगवान बुध का पवित्र भिक्षा पात्र अफगानिस्तान से वैशाली लाया जाए।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि हम लोग रघुवंश बाबू के अंतिम दिनों की इच्छा जरुर पूरी करेंगे। रविवार को उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को इसके लिए अनुरोध भेजा जा चुका है तथा जल्द ही इस पर समुचित कार्रवाई होगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: