Uttarakhand Politics: आज भाजपा विधायक दल की बैठक में नए सीएम का नाम होगा तय

0

Uttarakhand Politics: सीएम (CM) पद से तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) के इस्तीफा देने के बाद उत्तराखंड में एकबार फिर से सत्ता परिवर्तन होने जा रहा है। आज दोपहर तीन बजे विधायक दल की बैठक (legislature party meeting) होगी, जिसमें नए मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा की जाएगी। इसके लिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Union Minister Narendra Singh Tomar) प्रदेश के लिए रवाना हो चुके हैं। बता दें कि शुक्रवार देर रात मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार देर रात उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य (Governor Baby Rani Maurya) को अपना इस्तीफा (resign) सौंपा था।

ये भी पढ़े- District Panchayat President Election: क्या इस बार यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में चलेगा सपा का खेला?

Uttarakhand Politics: विधायकों में से हो सकता है सीएम का नाम

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक (BJP State President Madan Kaushik) ने जानकारी देते हुए कहा कि पर्यवेक्षक व प्रभारी सुबह करीब साढ़े दस बजे दून पहुंचेंगे। उन्होंने बताया कि दोपहर तीन बजे विधानसभा की बैठक में सीएम के नाम का ऐलान किया जाएगा। उसके बाद, सरकार गठन के लिए राज्यपाल से मिलेंगे। संभव है कि सीएम विधायकों में से हों।

Uttarakhand Politics: उत्तराखंड को मिलेगा 11वां सीएम

उत्तराखंड राज्य को 11 वां सीएम मिलने जा रहा है। अभी मुख्यमंत्री पद के लिए राजनीतिक गलियारों में विधायकों के बीच से चार नाम चर्चा में हैं। इनमें त्रिवेंद्र और फिर तीरथ मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. धन सिंह रावत के अलावा कैबिनेट मंत्री बिशन सिंह चुफाल, विधायक पुष्कर सिंह धामी और ऋतु खंडूड़ी भूषण के नाम प्रमुख हैं। यह बात अलग है कि इनके अलावा भी कोई अन्य इस मुकाबले में बाजी मार सकता है।

ये भी पढ़े- Corona Vaccine : गर्भवती महिलाएं भी लगवा सकती है कोरोना वैक्सीन, स्वास्थ्य मंत्रालय!

Uttarakhand Politics: गैर विधायको पर दांव खेल सकती है भाजपा

पिछले नेतृत्व परिवर्तन की भांति मुख्यमंत्री (CM) के नाम को लेकर भाजपा हाईकमान (BJP High Command) अगर इस बार भी चौंकाने पर आया, तो गैर विधायकों पर भी भाजपा दांव खेल सकती है। सांसदों में से किसी को जिम्मेदारी सौंपने पर यह सूरत बन सकती है कि वे बतौर मुख्यमंत्री छह माह का कार्यकाल पूरा करने से दो माह पहले विधानसभा को भंग कर चुनाव की सिफारिश कर दें। ऐसे में केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक (Union Minister Ramesh Pokhriyal Nishank), राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी (Rajya Sabha member Anil Baluni), सांसद अजय भट्ट व अजय टम्टा (MPs Ajay Bhatt and Ajay Tamta)के नामों पर केंद्रीय नेतृत्व विचार कर सकता है।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.