Varanasi : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का आज से तीन दिवसीय पूर्वांचल दौरा

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज(शनिवार) से तीन दिनों तक पूर्वाचल में रहेंगे। आज वह वाराणसी पहुंचेंगे और काशी विश्वनाथ मंदिर में सपरिवार दर्शन-पूजन करने के बाद गंगा आरती में भाग लेंगे।

0
Varanasi: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज(शनिवार) से तीन दिनों तक पूर्वाचल में रहेंगे। आज वह वाराणसी पहुंचेंगे और काशी विश्वनाथ मंदिर में सपरिवार दर्शन-पूजन करने के बाद गंगा आरती में भाग लेंगे। रात्रि विश्राम बरेका गेस्ट हाउस में करेंगे। गंगा सेवा निधि के अध्यक्ष और आरती आयोजक सुशांत मिश्रा ने बताया, “देश के राष्ट्राध्यक्ष गंगा आरती सपरिवार देखेंगे। भव्य गंगा आरती में 9 अर्चकों के साथ रिद्धि सिद्धि के रूप में 18 कन्याएं भी रहेंगी। घाट को फूल, मालाओं और दीपों से सजाया जाएगा।”

14 मार्च रविवार को सोनभद्र के बभनी ब्लॉक में कारीडाड़ चपचपकी स्थित सेवाकुंज आश्रम जाएंगे। यहां विविध कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद मिजार्पुर स्थित विंध्यवासिनी मंदिर में भी दर्शन-पूजन करने जाएंगे। 15 मार्च को वाराणसी में आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने के बाद दोपहर बाद दिल्ली को लौट जाएंगे।

ये भी पढ़ें- Panchayat Election : आप पार्टी अकेले लड़ेगी आगामी पंचायत चुनाव- संजय सिंह

डीएम कौशल राज शर्मा ने दशाश्वमेध घाट पर होने वाली गंगा आरती देखने के लिए आने वाले दर्शनर्थियों से अपील की है कि शनिवार को राष्ट्रपति के आगमन को देखते हुए शाम 5:30 बजे के बाद घाट पर प्रवेश रोक दिया जाएगा। गंगा आरती के लिए शाम 5:30 के पहले घाट पर प्रवेश किया जा सकता है।

सोनभद्र में बभनी ब्लॉक के कारीडाड़ चपचपकी स्थित सेवाकुंज आश्रम में 14 मार्च को राष्ट्रपति के आगमन को लेकर तैयारी पूरी कर ली गई हैं। शुक्रवार को राष्ट्रपति की सुरक्षा दस्ते से जुड़े अधिकारियों ने स्थानीय वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक बार फिर सुरक्षा का जायजा लिया। प्रशासनिक अधिकारियों ने सेवाकुंज आश्रम में की गई तैयारियों को देखा।

एसपी अमरेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा, “राष्ट्रपति के आगमन को लेकर तैयारी पूरी कर ली गई है। उनकी सुरक्षा के लिए बाहर से फोर्स और तकनीकी बल भी जिले में पहुंच गए हैं। इन बलों के जवानों को ठहराने और कार्यक्रम स्थल तक आने-जाने की व्यवस्था भी पूरी कर ली गई है। कार्यक्रम स्थल सीमांत क्षेत्र में आता है, इसलिए उसके आसपास के प्रदेशों से सटे जंगलों में लगातार कांबिंग की जा रही है। सुरक्षा व्यवस्था सख्त की गई है।”

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: