नवरात्रि में किये गए ये 5 उपाय बदल देगा आपकी जिंदगी, हमेशा रहेंगे खुशहाल

वाद-विवाद, झगड़े तो हर घर में होते हैं लेकिन आपके घर में पारिवारिक समस्याएं ज्यादा हैं तो नवरात्र के अंतिम दिन स्नाम कर ‘सब नर करहिं परस्पर प्रीति। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीति’ मंत्र का उच्चारण करते हुए अग्नि में घी से 108 बार आहुति दें।

0

नवरात्र स्पेशल: शारदीय नवरात्र के पूरे नौ दिन मां दुर्गा की कृपा अपने भक्तों पर बरसती रहती है। इन 9 दिनों में कई तरह के ऐसे उपाय भी किये जाते हैं जो जिंदगी की कठिनाइयों को दूर करने और उसे आसान बनाने में मदद करती है।

मान्‍यता है कि इन उपायों को अपनाने से जीवन खुशहाल होता है और मनमांगी मुराद पूरी होती है। लेकिन ये उपाय तभी फलकारी होता है जब इन्हे करते वक्त मन साफ हो। किसी का बुरा न सोचा जाए।

गृह क्लेश से मिलती है मुक्ति

वाद-विवाद, झगड़े तो हर घर में होते हैं लेकिन आपके घर में पारिवारिक समस्याएं ज्यादा हैं तो नवरात्र के अंतिम दिन स्नाम कर सब नर करहिं परस्पर प्रीति। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीति मंत्र का उच्चारण करते हुए अग्नि में घी से 108 बार आहुति दें। मान्‍यता है कि ऐसा करने से क्लेश दूर होता है घर में खुशहाली आती है।

आपसी प्रेम बढ़ाता है ये उपाय

परिवार के सदस्‍यों के बीच आपसी प्रेम-स्‍नेह बढ़ाने के लिए हर रोज नियमित रूप से 9 दिनों तक कम से कम 21 बार घी की आहुति देने के बाद सब नर करहिं परस्पर प्रीति। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीतिमंत्र का जप करें। मान्‍यता है कि इस मंत्र के जप से परिवार में प्रेम-स्‍नेह बढ़ता है।

धन संबंधी समस्याएं होंगी दूर

अगर आपके जीवन में धन संबंधी समस्‍याएं हैं, मेहनत करने के बावजूद आपका धन नहीं टिकता है तो अष्टमी या नवमी तिथि को साफ स्थान पर उत्तर की दिशा में मुंह करके बैठे। इसके बाद अपने सामने लाल चावलों की एक ढेरी बनाकर उस पर श्रीयंत्र रखें। श्रीयंत्र के सामने तेल के नौ दीपक जलाकर उपासना करें। इसके बाद श्रीयंत्र को घर के मंदिर में स्थापित कर दें और अन्य सामग्री को बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें। मान्‍यता है कि ऐसा करने से देवी मां की कृपा होती है और घर से दरिद्रता दूर हो जाती है। धन संबंधी सभी समस्‍याएं दूर होती हैं।

मन की मुराद होती है पूरी

नवरात्रि की अष्टमी तिथि को शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग पर दूध, दही, घी, शहद और शक्कर चढ़ाकर अच्छे से स्नान कराएं। इसके बाद मंदिर की सफाई करें और महादेव का श्रृंगार पूरे मन से करें। अब भोले का ध्यान करते हुए मंदिर से आ जाए। इसी दिन रात में करीब 10 बजे मंदिर में फिर जाकर अग्नि प्रज्ज्वलित कर ‘ऊं नम: शिवाय’ का जप करते हुए घी की 108 बार आहुति दें। इसके बाद 40 दिन तक इस मंत्र की पांच माला का जप घर पर ही करें। मान्‍यता है कि ऐसा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।

नौकरी की समस्याओं से मिलता है छुटकारा

अगर काफी मेहनत करने और भागदौड़ के बाद भी नौकरी संबंधी समस्‍याएं बनी रहती है तो नवरात्रि के अंतिम दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करने के बाद सफेद रंग का सूती आसन बिछाकर उस पर पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बैठ जाएं। अब अपने ठीक सामने पीला कपड़ा बिछाकर उस पर 108 मनकों वाली स्फटिक की माला रख दें तथा इस पर केसर व इत्र छिड़क कर माला का पूजन करें।

माला को धूप, दीप और अगरबत्ती दिखाकर ऊं ह्लीं वाग्वादिनी भगवती मम कार्य सिद्धि कुरु कुरु फट् स्वाहामंत्र का 31 बार जाप करें। इस प्रकार लगातार 11 दिन तक करने से वह माला सिद्ध हो जाएगी। इसके बाद आपको जब भी किसी इंटरव्यू में जाना हो या किसी से मिलने के जाना हो तो इस माला को पहन कर जाएं। मान्‍यता है कि ऐसा करने से मनचाही नौकरी मिलती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: