आज पटना लाया जाएगा रामविलास का पार्थिव शरीर, कल होगा अंतिम संस्कार

केंद्रीय मंत्री व लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान(Ram Vilas paswan) का गुरुवार की रात को दिल्ली(Delhi) में निधन हो गया।

0

पटना : केंद्रीय मंत्री और बिहार(Bihar) के कद्दावर नेता रामविलास पासवान(Ram Vilas paswan) के निधन के बाद राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर दौड़ गई है। प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति तक ने उनके निधन पर अपनी संवेदना प्रकट की है।

 

इसी बीच रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर शनिवार की दोपहर में दिल्ली से पटना(Patna) लाया जाएगा। उनका पार्थिव शरीर बिहार के प्रदेश कार्यालय में भी रखा जाएगा ताकि उनके चाहने वाले उनका अंतिम दर्शन कर सकें।

 

आपको बता दें कि 1969 से अब तक यानी 50 साल से सांसद, विधायक रहने वाले दलित नेता रामविलास पासवान को लालू प्रसाद यादव(Lalu Prasad Yadav) ने कहा था कि रामविलास, मौसम वैज्ञानिक थे। लालू प्रसाद ने उनको यह तमगा इसलिए दिया था क्योंकि रामविलास चुनाव से पहले जिस दल के साथ खड़े हो जाते थे वह दल चुनाव में बाजी मार ही जाता था। इस तरह रामविलास लगातार किसी न किसी बड़े ओहदे पर काबिज ही रहते थे । कुल मिलाकर रामविलास राजनीति में होने वाले बदलाव को बहुत अच्छी तरह भांप लेते थे।

रामविलास पासवान केवल 50 सालों से सांसद या विधायक ही नहीं थे बल्कि वे 1996 के बाद लगातार सभी केंद्रीय सरकारों में मंत्री भी रहे ।1988-89 में वीपी सिंह, फिर देवगौड़ा , गुजराल, अटल बिहारी, मनमोहन सिंह और अब नरेंद्र मोदी सबके साथ उन्होंने काम किया है । उनके नाम छः प्रधानमंत्रियों के साथ काम करने का अनूठा रिकॉर्ड भी है ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.