Research:नेत्रहीनो के आ गए हैं अच्छे दिन, अब किसी और से नहीं पूंछना पड़ेगा समय

0

Research: आईआईटी कानपुर (IIT Kanpur) के प्रोफेसर ने दिव्यांगों के लिए टच सेंसिटिव वॉच का निर्माण किया है। अब दिव्यांगों को समय जानने के लिए ऑडियो वाली घड़ी (Audio watch) पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। अभी तक दिव्यांगों के लिए ऑडियो वाली घड़ियां वाजार में उपलब्ध है। जिनको स्पर्श करने से वह समय बताती हैं।

आईआईटी के प्रोफेसर ने दिव्यांगो (Research for blind) के लिए बनाई टच सेंसिटिव वॉच

इस समस्या से निजात दिलाने के लिए आईआईटी के प्रोफेसर (IIT Professor) सिध्दार्थ पांडा ने सहयोगी विश्वराज श्रीवास्तव के साथ मिलकर शोध (Research) किया और टच सेंसिटिव वॉच (Touch sensitive watch) का निर्माण किया है। प्रोफेसर पांडा ने बताया कि घड़ी में 12 संकेतक लगाए गए है। जो एक बजे से 12 बजे तक की जानकारी देंगे।आपको बता दें कि अभी इसकी कीमत को लेकर कोई जानकारी नहीं दी गई है।

यह भी पढ़ेंः- अजान के लिए मोहल्ले की एक मस्जिद के लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करें : मौलवी

प्रोफेसर पांडा और विश्वराज श्रीवास्तव ने मिलकर (Research for blind) बनाई टच सेंसिटिव वॉच

प्रोफेसर पांडा ने बताया कि इस प्रयोग को पेटेंट (Patent) करा लिया गया है, और प्रोटोटाइप (Prototype) भी तैयार कर लिया गया है। नीति आयोग के उपाध्यक्ष (Deputy Chairman of NITI Aayog) राजीव कुमार ने कहा कि आईआईटी के प्रोफेसर और शोधार्थी टच सेंसिटिव, टेक्सटाइल और हैप्टिक वॉच (Haptic watch) के साथ समावेशी तकनीक और सुलभ इमटरफेस को आगे ले जा रहे हैं।दृष्टिबाधित के लिए यह काफी कारगर है। इस प्रकार के शोध सराहनीय है। आईआईटी के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने भी इस शोध की सराहना की है।

आए है।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को facebook Page पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: