पीएम मोदी ने ज्यादा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्री से की बात, देखें क्या है खास

पीएम ने राज्यों को सुझाया 72 घंटे का फार्मूला

0
देश में करोड़ों की बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे अधिक प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्री से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया। प्रधानमंत्री ने 72 घंटे का फार्मूला सुझाया।

इस संवाद में 10 राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के 80% से अधिक केस इन्हीं 10 राज्यों में हैं। इसलिए इस महामारी से निपटने में इन राज्यों की बड़ी भूमिका बनती है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कहीं ना कहीं यह भाव निकल कर आया है। अगर हम सब मिलकर अपने इन 10 राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं तो निश्चित तौर पर देश भी जीत जाएगा।

दूसरी तरफ प्रधानमंत्री ने कोरोना केस एक्टिव प्रतिशत के कम होने और रिकवरी रेट के बढ़ने पर संतोष जताया। उन्होंने कहा कि जाहिर है हमारे प्रयास कारगर सिद्ध हो रहे हैं। मृत्यु दर में कमी आने से हमारा भरोसा बढ़ा है। लोगों में उम्मीद दिख रही है कि वह इस महामारी से बाहर निकल सकेंगे। निश्चित तौर पर हमारा आत्मविश्वास बढ़ा है।

प्रधानमंत्री ने टेस्टिंग रेट को लेकर के भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि जिन राज्यों में टेस्टिंग रेट कम है और पॉजिटिव रेट ज्यादा है वहां टेस्टिंग रेट को बढ़ाने की जरूरत है। उनका कहना था कि बिहार, गुजरात, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना मी टेस्टिंग रेट बढ़ाने की जरूरत साफ तौर पर सामने निकल कर आई है।

72 घंटों का फार्मूला:

इसके अलावा प्रधानमंत्री ने कोरोना के खिलाफ लड़ने के लिए 72 घंटों का फार्मूला राज्यों को सुझाया। उन्होंने कहा  कि कोरोना खिलाफ कंटेनमेंट, कांटेक्ट ट्रेसिंग और सर्विलांस सबसे प्रभावी हथियार बन कर उभरा है। उन्होंने बताया एक्सपोर्ट का भी यही कहना है कि 72 घंटों में ही केस की पहचान कर लेने से संक्रमण की गति कम हो जाती है। आम जनता को भी यह बात समझ में आ रही है। आम नागरिक भी इस बात पर ध्यान दे रहे हैं।

टेस्टिंग रेट में इजाफा:

प्रधानमंत्री ने यह जानकारी दी की भारत में टेस्टिंग रेट में इजाफा हुआ है। प्रतिदिन 7 लाख टेस्टिंग रेट बढ़े हैं, आगे और भी यह बढ़ेंगे। इसके अलावा दुनिया के मुकाबले भारत में मृत्यु दर में कमी है। यह भारत के लिए संतोषजनक स्थिति है।

इस बैठक में आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब, बिहार, उत्तर प्रदेश, गुजरात और तेलंगाना के मुख्यमंत्री शामिल थे। आपको बता दें कि 10 राज्यों की हो रही इस बैठक में चार राज्य ऐसे थे जिसमें भाजपा और गठबंधन की सरकार है।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: