‘मन की बात’ में पीएम ने किया करगिल योद्धाओं को याद

कोरोना से लड़ने का भी दिया संदेश

0

दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को जनता से ‘मन की बात’ की। पीएम मोदी ने कारगिल विजय दिवस के मौके पर वीर जवानों को नमन किया साथ ही कोरोना महामारी से जंग जीतने का भी संदेश दिया। पढ़िए मन की बात कार्यक्रम की 10 बड़ी बातें-

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को किया याद

पीएम ने पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को भी याद किया। उन्होने कहा कि करगिल युद्ध के दौरान अटल जी ने लाल किले से जो कहा था वो आज भी हम सभी के लिए बहुत प्रासंगिक है। अटल जी ने तब देश को गांधी जी के एक मंत्र की याद दिलाई थी। महात्मा गांधी का मंत्र था- यदि किसी को कभी कोई दुविधा हो कि उसे क्या करना क्या नहीं करना चाहिए तो उसे भारत के सबसे गरीब और असहाय व्यक्ति के बारे में सोचना चाहिए. उसे ये सोचना चाहिए कि जो वो करने जा रहा है उससे उस व्यक्ति की भलाई होगी या नहीं होगी। गांधी जी के इस विचार से आगे बढ़कर अटल जी ने कहा था कि करगिल ने हमें एक दूसरा मंत्र दिया है। ये मंत्र था- कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले, हम ये सोचें कि क्या हमारा कदम उस सैनिक के सम्मान के अनुरूप है जिसने दुर्गम पहाड़ियों में अपने प्राणों की आहूति दी थी।

करगिल युद्ध कभी नहीं भूलेगा भारत-पीएम

पीएम मोदी ने मन की बात के दौरान करगगिल युद्ध में शहीद हुए वीर जवानों को नमन किया। उन्होने कहा कि करगिल का युद्ध जिन परिस्थिति में हुआ था वो भारत कभी नहीं भूल सकता। पाकिस्तान ने बड़े-बड़े मंसूबे पालकर भारत की भूमि हथियाने और अपने यहां चल रही आंतरिक कलह से ध्यान भटकाने के लिए यह दुस्साहस किया था। भारत तब पाकिस्तान से अच्छे संबंधों के लिए प्रयासरत था। लेकिन कहा जाता है- बयरू अकारण सब काहू सों. जो कर हित अनहित ताहू सों। यानी दुष्ट का स्वभाव ही होता है हर किसी से बिना वजह दुश्मनी करना। ऐसे स्वभाव के लोग सबका नुकसान ही सोचते हैं।

 

कोरोना योद्धाओं को करें याद-पीएम

पूरा देश इस वक्त एक गंभीर महामारी से जूझ रहा है। करोना ने हर वर्ग हर तबके के लोगों को अपना शिकार बनाया है। पीएम मोदी अपने हर संबोधन में कोरोना वारियर्स की बात करते हैं। उन्होने मन की बात में भी कोरोना योद्धाओं को याद किया। पीएम ने कहा, ‘पिछले कुछ महीनों में पूरे देश ने कोरोना से एकजुट होकर जिस तरह मुकाबला किया है उसने अनेक आशंकाओं को गलत साबित कर दिया है। आज हमारे देश में रिकवरी रेट अन्य देशों के मुकाबले बेहतर है। साथ ही हमारे देश में कोरोना से मृत्यु दर भी दुनिया के ज्यादातर देशों से काफी कम है। निश्चित रूप से एक भी व्यक्ति को खोना दुखद है. लेकिन भारत अपने लाखों देश वासियों का जीवन बचाने में सफल भी रहा है।’

लोगों से की मास्क लगाने की अपील

पीएम ने कहा कि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है।कई स्थानों पर ये तेजी से फैल रहा है। हमें ध्यान रखना है कि कोरोना अभी भी उतना ही घातक है जितना पहले था। कभी-कभी हमें मास्क से तकलीफ होती है। मास्क हटाने का मन करता है। जब भी मास्क से परेशानी महसूस हो तो उन डॉक्टर्स-नर्सों का स्मरण कीजिए जो हम सब के जीवन को बचाने के लिए 10 घंटे तक मास्क लगाए रखते हैं।

ग्रामीण भारत भी लड़ रहा है कोरोना से जंग

पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान ग्रामीण भारत का भी जिक्र किया। उन्होने का कि जम्मू में त्रेवा ग्राम पंचायत है वहां की सरपंच हैं बलबीर कौर जी। मुझे बताया गया कि बलबीर कौर जी ने अपने क्षेत्र में 30 बेड का एक क्वारनटीन सेंटर बनवाया। लोगों को हाथ धोने में कोई परेशानी न हो इसका इंतजाम करवाया। इतना ही नहीं, बलबीर कौर जी खुद अपने कंधे पर स्प्रे पंप टांगकर स्वयंसेवकों के साथ मिलकर पूरी पंचायत में सैनिटाइजेशन का काम भी करती हैं।

 

पीएम मोदी ने मन  बात कार्यक्रम के दौरान लोगों से अपील की कि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। ऐसे में हर देशवासी को एकजुट होकर इस महामारी का मुकाबला करना है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: