बच्चों को खिलाकर पौष्टिक आहार, सेहत सुधारेगी योगी सरकार

मिड डे मील को पौष्टिक बनाने के लिए करीब 3 लाख 80 हजार रसोइयों को ट्रेनिंग देने की योजना है।

0

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (UP) की योगी सरकार (Yogi Government) अब स्कूलों में अच्छी शिक्षा के साथ बच्चों की सेहत का ख्याल रखने के लिए मिड डे मील (Mid Day Meal) को पौष्टिक बनाने की दिशा में कदम बढ़ा रही है। इसके लिए करीब 3 लाख 80 हजार रसोइयों को ट्रेनिंग देने की योजना है।

बेसिक शिक्षा महानिदेशक (Director general of basic education) विजय किरण आनंद (Vijay Kiran Anand) ने मीडिया को बताया कि मिड डे मील को स्वादिष्ट और पौष्टिक (Delicious and nutritious) बनाने के लिए ट्रेनिंग की रूपरेखा (Training profile) तैयार कर लिया गया है। लेकिन कोविड महामारी के कारण अभी इसे शुरु नहीं किया गया है।

कोरोना काल खत्म होते ही यह शुरू कर दिया जाएगा। फूड सेफ्टी विभाग के साथ मिलकर मिड-डे मील को पौष्टिक बनाया जाएगा। इसके लिए 3 लाख 80 हजार रसोइयों को ट्रेनिंग दी जाएगी।

उन्होंने बताया, “मिड डे मील को बनाते समय न्यूट्रीशन, हाइजीन और सुरक्षा का पूरा ध्यान रखना है। इसमें बेसिक शिक्षा विभाग के मास्टर ट्रेनर हैं जो रसोइयों के ट्रेनिंग में सहयोग करेंगे।

ट्रेनिंग का उद्देश्य भोजन की सुरक्षा, स्वच्छता और पौष्टिकता का बेहतर समझ विकसित करना। इसके लिए हमने वीडियो बनाए हैं जो ट्रेंनिंग के दौरान दिखाएं जाएंगे। भोजन की गुणवत्ता अच्छी हो, इस पर पूरा फोकस किया जाएगा।”

किरण ने बताया कि रसोइयों को प्रशिक्षण के दौरान भोजन के रखरखाव, साफ-सफाई के बारे में भी बताया जाएगा, ताकि बच्चों की सेहत के साथ भोजन की पौष्टिकता भी बढ़े। भोजन परोसने का तरीका, सब्जी धुलने का ज्ञान, भोजन ढकने समेत कई चीजों के बारे में बताया जाएगा।

उन्होंने बताया, “1 करोड़ 80 लाख छात्रों को पौष्टिक आहार दिया जाना है। हमारे करीब 1 लाख 59 हजार स्कूलों में उच्च प्राथमिक, राजकीय, सहायता प्राप्त समेत सभी हैं, जिनमें मिड-डे मील की योजना संचालित है।”

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: