Nobel Prize for Chemistry 2021: जर्मन वैज्ञानिक बेंजामिन लिस्ट और स्कोलटलैंड के डेविड डब्ल्यूसी मैकमिलन को मिला रसायन का नोबल

0

Nobel Prize for Chemistry 2021: केमिस्ट्री (रसायन विज्ञान) में साल 2021 के लिए नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize for Chemistry 2021) का ऐलान बुधवार को कर दिया गया। इस बार रसायन विज्ञान का नोबेल जर्मन वैज्ञानिक बेंजामिन लिस्ट और स्कॉटलैंड में जन्मे वैज्ञानिक डेविड डब्ल्यूसी मैकमिलन को असममित ऑर्गेनोकैटलिसिस के विकास के लिए दिया गया है। इन दोनों नेमॉलिक्यूलर कंस्ट्रक्शन के लिए एक सटीक और नया उपकरण विकसित किया है।

Nobel Prize for Chemistry 2021

 

Nobel Prize for Chemistry 2021 पुरस्कार बेंजामिन लिस्ट और डेविड डब्ल्यूसी मैकमिलन को मिला

नोबेल पुरस्कारों के माध्यम से अकसर उन कार्यों को सम्मानित किया जाता है, जिनका आज व्यावहारिक रूप से विस्तृत उपयोग हो रहा है। केमिस्ट्री में नोबेल पुरस्कार रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज, स्टॉकहोम, स्वीडन द्वारा प्रदान किया जाता है।

Nobel Prize for Chemistry 2021

ये भी पढ़े-Nobel prize 2020: वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को मिलेगा शांति का नोबेल पुरस्कार

क्या है अविष्कार? –

नोबेल समिति ने कहा, “2021 रसायन विज्ञान पुरस्कार विजेता बेंजामिन लिस्ट और डेविड मैकमिलन ने अणु निर्माण के लिए एक नया और सरल उपकरण विकसित किया है। ऑर्गेनोकैटलिसिस। इसके उपयोगों फार्मास्यूटिकल्स में अनुसंधान शामिल है और इसने रसायन विज्ञान को हरा-भरा बनाने में भी मदद की है।”

 

शोधकर्ता लंबे समय से मानते थे कि केवल दो प्रकार के उत्प्रेरक उपलब्ध थे धातु और एंजाइम। एक दूसरे से स्वतंत्र रूप से, विजेता बेंजामिन लिस्ट और डेविड मैकमिलन ने एक तीसरा प्रकार विकसित किया “असममित ऑर्गेनोकैटलिसिस” जो छोटे कार्बनिक अणुओं पर बनता है।

तीसरे टाइप के कटैलिसीस की खोज के लिए Nobel Prize for Chemistry 2021 दिया गया

Nobel Prize for Chemistry 2021

इन प्रतिक्रियाओं का उपयोग करते हुए, शोधकर्ता अब नए फार्मास्यूटिकल्स से लेकर अणुओं तक कुछ भी अधिक कुशलता से बना सकते हैं जो सौर कोशिकाओं में प्रकाश को पकड़ सकते हैं।

दोनों वैज्ञानिकों ने फार्मास्युटिकल रिसर्च में दिया बड़ा योगदान (Nobel Prize for Chemistry 2021)

केमिस्ट्री में नोबेल पुरस्कार रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज, स्टॉकहोम, स्वीडन द्वारा प्रदान किया जाता है। नोबेल पुरस्कार के तहत स्वर्ण पदक, एक करोड़ स्वीडिश क्रोना (लगभग 8.20 करोड़ रूपये) की राशि दी जाती है। यह पुरस्कार स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल के नाम पर दिया जाता है।

पिछले साल, CRISPR-Cas9 – डीएनए स्निपिंग “कैंची” के रूप में जानी जाने वाली जीन-संपादन तकनीक विकसित करने के लिए फ्रांसीसी महिला वैज्ञानिक इमैनुएल चार्पेंटियर और अमेरिकी जेनिफर डौडना को यह सम्मान दिया गया था।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.