Muslim Women Vote: यूपी चुनावों में भाजपा को मुस्लिम महिलाओं के वोटों से उम्मीद

0

Muslim Women Vote:  उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव का आज तीसरा चरण है। 16 जिलों में वोटिंग हो रही है। एक तरफ जहां पूर्ण बहुमत से जीत हासिल करने का दावा कर रही है तो वहीं बीजेपी को इस बार मुस्लिम वोट मिलने की पूरी उम्मीद है। भाजपा (BJP) ने मुस्लिम महिलाओं को भी प्रभावित करने की पूरी कोशिश की। तीन तलाक के खिलाफ कानून को लेकर यह बताने की कोशिश की गई कि इस सरकार ने मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाया है।

ये भी पढ़ें- Third Phase Election in UP: तीसरे चरण के मतदान में सुबह 11 बजे तक 21.18 फीसदी वोटिंग

ऐसे में बीजेपी मुस्लिम महिलाओं का वोट अपने पक्ष में आने की पूरी उम्मीद लगा रखी है। हालांकि भाजपा ने हर बार की तरह इस बार भी एक भी मुस्लिम (Muslims) को प्रत्याशी नहीं बनाया है, लेकिन रामपुर की स्वार सीट से भाजपा के सहयोगी पार्टी अपना दल ने आजम खान के लड़के के खिलाफ एक प्रत्याशी उतारा है।

Muslim Women Vote:  विपक्षी पार्टियों ने खूब उतारे मुस्लिम उम्मीदवार

बीजेपी ने जहां एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया तो वहीं इसके विपरीत विपक्षी दलों ने भरपूर टिकट मुस्लिम प्रत्याशियों को दिए। चाहे सपा हो, बसपा या फिर कांग्रेस सभी ने इन्हें टिकट दिया। इनके वोट बैंक पर खासा नजर भी गड़ाए हुए है, लेकिन भाजपा को लगता है उसकी योजनाएं मुस्लिम समाज के लिए कारगर हथियार साबित होंगी। इसलिए वह इस वोट को पाने की संभावना जता रहा है।

Muslim Women Vote
यूपी चुनावों में भाजपा को मुस्लिम महिलाओं के वोटों से उम्मीद

इसी कारण जहां पर मुस्लिम वोट निर्णायक थे वहां पर पार्टी के कार्यकर्ताओं ने खूब दम लगाया था। यहां तक कि भाजपा के स्टार प्रचारक प्रधानमंत्री मोदी ने भी एक रैली में कहा कि मुस्लिम बहन बेटियां, हमारी साफ नीयत को भली भांति जानती हैं।

Muslim Women Vote:  यूपी में मुस्लिमों की आबादी 19.26 फीसदी

2011 की जनगणना के मुताबिक प्रदेश की आबादी में मुसलमानों की तादाद 3 करोड़ 84 लाख 83 हजार 967 यानी लगभग 19.26 फीसदी है। अगर समूह के तौर पर देखें तो ये बड़ी आबादी है। कहीं कम, कहीं ज्यादा, यह पूरे प्रदेश में हैं। हालांकि इनकी आबादी का बड़ा हिस्सा पश्चिमी और पूर्वी उत्तर प्रदेश, रूहेलखंड, तराई और अवध क्षेत्र में रहता है। ऑल इंडिया मुस्लिम महिला पर्सनल लॉ बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्ता अम्बर का कहना है कि वर्तमान सरकार की कुछ योजनाओं का लाभ बहुत लोगों को मिला है।

शौचालय, राशन कार्ड, आवास जैसी कई योजनाएं हैं, लेकिन कुछ लोगों को बयान बहुत खराब रहे हैं। इसमें सुधार की जरूरत है। हम शांति और रोजगार के लिए वोट करेंगे। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश महामंत्री दानिश आजाद का कहना है कि भाजपा सरकार जाति मजहब देखकर योजनाओं का लाभ नहीं देती है, लेकिन फिर अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को हर योजना का लाभ मिल रहा है। उसमें मुस्लिम भी शामिल है। हमारी बहनों को तीन तलाक जैसी कुप्रथा से मुक्ति मिली है।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.