20 से ज़्यादा देशों में मंकीपॉक्स का खतरा

0

नई दिल्ली: मंकीपॉक्स के अभी तक 20 से ज़्यादा देशों में फैलने की खबर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा अभी तक करीब 200 मामलों की पुष्टि की गई है जबकि 100 से अधिक संदिग्ध मामले उन देशों में बताये जा रहे हैं जहां यह नहीं पाया जाता है।

विश्व स्वास्थ संगठन ने सभी देशों से आग्रह किया है कि इस वायरस के प्रति सचेत रहे और निगरानी रखें। 07 मई को इसका पहला यूके में मिला था जबकि हाल के हफ्तों में इसके उत्तरी अमेरिका और यूरोप में फैलने का समाचार है।

जानकारी के मुताबिक चिकनपॉक्स और स्मॉलपॉक्स के सामान ही मंकिपॉक्स भी एक ओर्थोंपॉक्सवायरस है। हालांकि इसकी मृत्युदर तुलनात्मक रूप से कम है। मंकीपॉक्स के संक्रमण का कारण इसके मरीज़ के शरीर से निकलने वाला स्राव है। पीड़ित मरीज़ के अत्यधिक करीब आने पर ये खतरनाक होता है।

लक्षण

शारीरिक थकान
सिरदर्द के साथ ठंड लगना
शरीर पर लाल रंग दाने
मांसपेशियों में दर्द
निमोनिया
तेज बुखार
सूजन
शरीर के लाल दाने का घाव बन जाना

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषदके मुताबिक़ देश में इस बीमारी का अभी कोई मामला नहीं मिला है। यह संक्रामक रोग यूरोप, अमेरिका अभी तक 20 देशों में फैलने की खबर है। लेकन फिर भी सावधानी बरतने की जरूरत है। विदेश यात्रा से आने वाले किसी व्यक्ति को यदि बुखार या सिरदर्द की समस्या होती है तो उसे तुरंत आइसोलेट होकर चिकित्सक से बात करना चाहिए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.