10 सितंबर से बुलाया जा सकता है मॉनसून सत्र

गलवान मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी, श्वेत पत्र की मांग कर सकता है विपक्ष

0

कोरोना संकट काल की वजह से जहां इस साल का बजट सत्र (budget session) आनन-फानन में खत्म कर दिया गया था, वहीं अब 10 सितंबर से संसद (parliament) का मॉनसून सत्र (Monsoon Session) बुलाए जाने की तैयारी की जारी रही है। ऐसे में जहां एक ओर पक्ष इसकी तैयारियों में जुटी है तो दूसरी ओर विपक्ष सरकार को भारत-चीन (India-China) सीमा विवाद, गलवान घाटी (Galwan Valley Clash), कोरोना संकट (Corona Epidemic) और अन्य कई मुद्दों पर घोरने की तैयारी कर रही है। बता दें 22 सितंबर को मॉनसून सत्र बुलाए जाने की मियाद खत्म हो रही है।

10 सितंबर से मॉनसून सत्र बुलाए जाने को लेकर सरकार अन्य दलों से भी विचार विमर्श कर रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मॉनसून सत्र 10 सितंबर से शुरू होगा जो अगले 2 हफ्तो तक चल सकता है।

सूत्रों की माने तो सभी विपक्षी पार्टियां केंद्र की मोदी सरकार को LAC पर जारी तनाव के मुद्दे पर घेरने की योजना बना रही हैं। खबर तो ये भी है कि मॉनसून सत्र में विपक्ष केंद्र सरकार से LAC मुद्दे पर स्वेत पत्र लाने की मांग भी कर सकती है। ऐसे में अगर 10 सिंतबर से मॉनसून सत्र शुरू भी होता है तो विपक्ष सदन में हंगामा कर सकती है।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए कांग्रेस नेता और सांसद अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा स्पीकर को एक पत्र लिखा है। जिसमें मॉनसून सत्र में शारीरिक रूप से उपस्थित होने के साथ-साथ ऐप के जरिए भी सांसदों को संसदीय कार्यवाही में हिस्सा लेने का विकल्प दिए जाने पर विचार करने को कहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: