Lucknow:मऊ के कृष्ण चंद्र राय शर्मा संयुक्त सचिव के पद से हुए रिटायर

0

Lucknow:मऊ के कृष्ण चंद्र राय शर्मा संयुक्त सचिव के पद से हुए रिटायर

Lucknow: मऊ जिले के दोहरीघाट से ताल्लुख रखने वाले कृष्ण चंद्र राय शर्मा, 32 साल की सेवा के बाद उत्तर प्रदेश सचिवालय से बतौर संयुक्त सचिव सेवानिवृत्त हो गए. कृष्ण चंद्र दोहरीघाट के धनौली गांव के रहने वाले हैं. कृष्ण चंद्र ने उत्तर प्रदेश सचिवालय में नागरिक उड्डयन, उच्च शिक्षा समेत विभिन्न विभागों में अपनी सेवा देकर प्रदेश के विकास में अपना अतुलनीय योगदान दिया है.

Lucknow

मऊ के दोहरीघाट के रहने वाले हैं कृष्ण चंद्र राय शर्मा

प्रशासनिक गलियारों में कृष्ण चंद्र बेहद ही कर्मठ, जुझारू और ईमानदार अधिकारी के रूप में जाने जाते थे. अभी देश के बड़े मीडिया संस्थान आजतक के दिल्ली स्थित नेशनल ब्यूरो में पत्रकार उनके एक करीबी रिश्तेदार ने अपना मऊ टीम को बताया कि कृष्ण चंद्र के लिए उनका दफ्तर, उनका काम  सर्वोपरि था. वह बेहद ईमानदारी से अपनी जिम्मेदारियों का ख्याल रखते थे. साथ ही अपने परिवार, घर और दफ्तर के बीच बेहतरीन तालमेल के साथ अपनी जिम्मेदारियों की निर्वह्न करते थे. उनके अनुसार कई मौके उन्होंने ऐसे देखे कि वो जरूरी काम से शाम को मऊ में रहे और अगली सुबह लखनऊ स्थित दफ्तर में. साथ ही उनके रिश्तेदार बताते हैं कि घर के सभी सदस्यों का ख्याल, छोटों के प्रति अनुशासन और पढ़ाई को लेकर सख्त उनका व्यक्तित्व था.

कृष्ण चंद्र राय शर्मा उत्तर प्रदेश सचिवालय में संयुक्त सचिव पद से हुए सेवानिवृत्त

दिल्ली में ही एक बड़ी इंटरनेशनल एयरलाइन में बतौर भारतीय ऑपरेशन्स के जीएम उनके बेटे बताते हैं कि हमेशा से उन्होंने परिवार और काम के बीच बेहतरीन सामंजस्य बैठाया है. काम को लेकर हमेशा ईमानदार, समय पर ऑफिस जाना, पूरी निष्ठा से अपने दायित्व को निभाना उनके सिद्धांत थे. साथ ही वो बताते हैं कि आज इस मौके पर परिवार लखनऊ में एकत्रित होने वाला था पर लॉकडाउन के चलते यह अभी मुमकिन नहीं हो पाया तो बाद में सब एकत्रित होंगे और उनके इस खास पल को जश्न में तब्दील करेंगे.

उच्च शिक्षा में संयुक्त सचिव के पद पर थे कार्यरत

साथ ही सचिवालय के पूरे दफ्तर, उनके सहयोगी, उनके मित्र, उनके परिवारजनों ने अलग-अलग माध्यमों से उन्हें बधाई संदेश भेजें. कृष्ण चंद्र ने प्रदेश के विकास के लिए अलग-अलग विभागों में अपने कार्यकाल के दौरान कई अहम फैसले लिए और अपनी जन्मभूमि मऊ का भी मान बढ़ाया.

Click Here To Download Arogya Setu Aap

अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: