कतर ने किया ‘लेबर लॉ’ में सुधार, लाखों भारतीय मजदूरों को होगा फायदा

न्यूनतम मजदूरी में हुआ लगभग ₹19556 का इजाफा

0
फीफा वर्ल्ड कप 2022 का आयोजन कतर(Qatar) में हो रहा है ।इसके मद्देनजर कतर ने अपने यहां के लेबर कानून में काफी बदलाव किया है। इस नए कानून के अनुसार न्यूनतम मजदूरी में 1000 रियाल यानी लगभग ₹19556 का इजाफा होगा।

इसके अलावा कतर ने अपने देश में प्रचलित काफला (Kafala) सिस्टम को भी खत्म कर दिया है। इस व्यवस्था के अनुसार मजदूरों को काम छोड़कर जाने से पहले अपने मालिकों से एनओसी( NOC) सर्टिफिकेट लेना पड़ता था।अब वे स्वच्छंद होकर जहां भी चाहे काम कर सकते हैं।

अल जजीरा (Al Jazeera) समाचार नेटवर्क के मुताबिक कतर के मिनिस्ट्री ऑफ एडमिनिस्ट्रेटिव डेवलपमेंट, लेबर एंड सोशल अफेयर (Qatar’s Ministry of Administrative Development, Labour and Social Affairs MADLSA) ने इन कानूनों को लेकर और कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं । ज्ञात हो कि उपरोक्त दोनों सुधारों की घोषणा अक्टूबर 2019 में ही हुई थी जबकि बीते रविवार को इन पर साइन किया गया है।

कतर, गल्फ कॉर्पोरेशन काउंसिल (Gulf cooperation council GCC ) के 6 देशों में ऐसा पहला देश है जिसमें विदेशियों के लिए नियमित न्यूनतम मजदूरी तथा कामों में इतनी स्वच्छंदता का ऐलान है।

जब 2010 में कतर को फीफा वर्ल्ड कप 2022 को होस्ट करने की जिम्मेदारी मिली तब से ही वहां प्रवासियों की संख्या लगातार बढ़ रही है । इसमें भारत के भी काफी मजदूर हैं। कतर विदेशी मजदूरों पर काफी हद तक निर्भर है ।कतर में लगभग 630000 भारतीय मजदूर हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: