कार्तिक शुक्ल की एकादशी का है विशेष महत्व, जानें इसे क्यों कहते हैं प्रबोधिनी एकादशी

कार्तिक शुक्ल एकादशी को पद्मपुराण में देवप्रबोधिनी एकादशी कहा गया है। इस एकादशी को देवउठनी और देवउठानी और हरिप्रबोधिनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।

0

एकादशी: कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी को प्रबोधिनी एकादशी कहते है। ऐसे तो सभी एकादशी अपने आप मे विशेष महत्व रखती है परंतु चतुर्थ मास को पूरा करने वाली एकादशी और तुलसी विवाह ढेर सारे धार्मिक अर्थों को अपने आप मे समेटे हुये है

कार्तिक शुक्ल एकादशी को पद्मपुराण में देवप्रबोधिनी एकादशी कहा गया है। इस एकादशी को देवउठनी और देवउठानी और हरिप्रबोधिनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। इस एकादशी के सभी नाम का अर्थ एक ही है भगवान का नींद से जगना। भगवान विष्णु इस दिन चार महीने के शयन के बाद योगनिद्रा से जगते हैं। इस एकादशी के दिन भगवान विष्णु के शालिग्राम रूप का देवी तुलसी के साथ विवाह हुआ था। इसलिए इस एकादशी का साल के सभी 24 एकादशी में विशेष महत्व है।

एकादशी व्रत पापों से मिलता है छुटकारा

इस दिन देवी-देवता भी एकादशी का व्रत रखते हैं। पद्मपुराण में बताया गया है कि इस एकादशी के व्रत से मनुष्य पाप कर्मों से छूट जाता है और मुक्ति पा जाता है। लेकिन इस साल देवप्रबोधिनी एकादशी की तिथि को लेकर उलझन की स्थिति है क्योंकि 25 और 26 नवंबर दोनों ही दिन एकादशी तिथि है। आइए जानें किस दिन एकादशी व्रत करना होगा आपके लिए सही।

देवशयनी एकादशी पर उलझन

देवशयनी एकादशी पर उलझन की स्थिति की वजह यह है कि इस वर्ष 24 नवंबर को रात 2 बजकर 43 मिनट से एकादशी तिथि लग रही है जो 25 तारीख को दिन रात रहेगी और 26 तारीख को सुबह 5 बजकर 11 मिनट पर समाप्त होगी। इसके बाद 5 बजकर 12 मिनट से द्वादशी तिथि लगेगी जो 27 तारीख को 7 बजकर 47 मिनट पर समाप्त होगी। इससे द्वादशी तिथि की वृद्धि हो गई है।

क्या है एकादशी की सही तिथि

शास्त्रों में बताया गया है कि वैष्णव लोग यानी जिन्होंने किसी गुरु से वैष्णव मंत्र लिया है या साधु संत हैं वह द्वादशी युक्त एकादशी में व्रत करें। जबकि अन्य लोगों को जिस दिन सुबह एकादशी तिथि लग रही हो उस दिन व्रत करना चाहिए और द्वादशी तिथि के आरंभ में भोजन ग्रहण करना चाहिए। इस नियम के अनुसार 25 नवंबर को गृहस्थ लोगों को व्रत करना चाहिए और 26 नवंबर को साधु संतों और वैष्णव लोगों को देवप्रबोधिनी एकादशी का व्रत करना चाहिए।

इस साल एकादशी व्रत की न करें शुरुआत

जो भी इस बार यह ब्रत पहली बार रखना चाहते है। उनके लिये उचित नहीं हो गा क्यो की जिस बार मलमास का महीना लगता हैं। उस वर्ष नया ब्रत नही रखना चाहिए

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: