वायुसेना की बढ़ी ताकत, राफेल लड़ाकू विमानों का दूसरा जत्था पहुंचा भारत

तीन नए विमान फ्रांस के इस्ट्रेस से गुजरात के जामनगर पहुंचे। इस यात्रा के दौरान फ्रेंच एयर फोर्स का मिड एयर रिफ्यूलिंग एयरक्राफ्ट साथ था। इस यात्रा के लिए भारतीय वायुसेना के पायलटों को फ्रांस के सेंट दिजिएर एयरबेस में प्रशिक्षण दिया गया।

0

नई दिल्ली: फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमानों का दूसरा जत्था भारत पहुंच गया है। भारतीय वायुसेना ने बुधवार को जानकारी दी है कि राफेल विमानों का दूसरा जत्था फ्रांस से नॉन-स्टॉप उड़ान भरने के बाद बुधवार की रात 8:14 बजे भारत पहुंच चुका है।

तीन नए विमान फ्रांस के इस्ट्रेस से गुजरात के जामनगर पहुंचे। इस यात्रा के दौरान फ्रेंच एयर फोर्स का मिड एयर रिफ्यूलिंग एयरक्राफ्ट साथ था। इस यात्रा के लिए भारतीय वायुसेना के पायलटों को फ्रांस के सेंट दिजिएर एयरबेस में प्रशिक्षण दिया गया।

सहायक वायु सेनाध्यक्ष (परियोजना) के नेतृत्व में विशेषज्ञों की एक टीम तीन लड़ाकू जेट प्राप्त करने के लिए लॉजिस्टिक मुद्दों का समन्वय कर रही है।

इन तीन नए विमानों के आने के बाद भारत के पास कुल आठ राफेल विमान हो गए हैं। इससे पहले 29 जुलाई को पांच राफेल विमान आए थे। इन्हें 10 सितंबर को अंबाला में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान गोल्डन एरोज स्क्वॉड्रन में शामिल किया गया था।

राफेल के पहले बेड़े को जब वायुसेना में शामिल किया गया था तब रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इसे गेम चेंजर करार दिया था। उनका दावा था कि राफेल के साथ वायुसेना ने टेक्नोलॉजी के स्तर पर बढ़त हासिल कर ली है।

सिंह ने कहा था, मुझे विश्वास है कि हमारी वायु सेना ने राफेल के साथ एक तकनीकी बढ़त हासिल कर ली है। राफेल 4.5 पीढ़ी का विमान है और इसमें नवीनतम हथियार, बेहतर सेंसर दिए गए हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: