Farmers Victory Day: कांग्रेस आज देशभर में मनाएगी ‘किसान विजय दिवस’

0

Farmers Victory Day: मोदी सरकार द्वारा तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा के बाद कांग्रेस ने शनिवार यानी आज किसान विजय दिवस मनाने के साथ-साथ पूरे देश में विजय रैली आयोजित करने का फैसला किया है, जिससे किसानों के विरोध के मुद्दे पर पार्टी की राजनीतिक रणनीति बदल रही है।

Farmers Victory Day

Farmers Victory Day: महंगाई के मुद्दे को भुनाने की तैयारी में अब कांग्रेस

देशभर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों को वापस लेने के बाद, कृषि कानूनों को रद्द करना दूसरा बड़ा फैसला है जो केंद्र सरकार ने आम जनता के बड़े विरोध के बाद लिया है।

अब कांग्रेस महंगाई को भुनाने के लिए पूरी तरह तैयार है, जिसमें देश के सामने मौजूद अन्य सभी दबाव वाले मुद्दे भी शामिल हैं। अत: अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव के.सी. वेणुगोपाल ने शुक्रवार को सभी राज्य सरकारों को पत्र लिखकर कहा कि तीन केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस लेने के बाद पार्टी द्वारा शनिवार को पूरे देश में किसान विजय दिवस मनाया जाएगा।

ये भी पढ़ें- DGP-IGP conference inaugurated: अमित शाह ने किया 56वें डीजीपी-आईजीपी सम्मेलन का शुभारंभ

केंद्र सरकार द्वारा तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने का जश्न लोगों तक पहुंचे इसके लिए किसान विजय रैली का आयोजन किया जाएगा। कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्षों ने जिले से लेकर प्रखंड स्तर तक सभी पार्टी कार्यकर्ताओं को किसान विजय दिवस मनाने के निर्देश दिए हैं।

Farmers Victory Day: कांग्रेस ने अपने जन जागरण अभियान की समग्र रणनीति को बदला

इससे पहले कांग्रेस ने 14 नवंबर से देशभर में मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ जन जागरण अभियान चलाने का फैसला किया था। कांग्रेस ने यह अभियान पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी, बेरोजगारी, महंगाई आदि जैसे विभिन्न मुद्दों पर शुरू किया था।

कांग्रेस ने अंग्रेजों के खिलाफ महात्मा गांधी द्वारा किए गए दांडी मार्च की तर्ज पर पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा पैदल मार्च और जुलूस निकालने का फैसला किया था।

कांग्रेस के विरोध के बाद आम जनता को राहत देते हुए केंद्र ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर कम उत्पाद शुल्क लगाया। शुक्रवार को केंद्र सरकार ने आखिरकार तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस ले लिया। केंद्र द्वारा लिए गए ऐसे फैसलों के बाद, कांग्रेस ने भी अपने जन जागरण अभियान की समग्र रणनीति को बदल दिया है।

कांग्रेस अब केंद्र सरकार को संसद में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए मजबूर करने की तैयारी कर रही है। इसके लिए कांग्रेस नेता केंद्र सरकार से फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) सुनिश्चित करने, कर्ज माफी, कृषि क्षेत्र से जीएसटी हटाने और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों की मांग कर रहे लोगों तक पहुंचेंगे।

Farmers Victory Day: संसद से लेकर सड़कों तक विपक्षी दलों ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की थी

दूसरी ओर, कांग्रेस ने पिछले संसद सत्र के दौरान तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग करते हुए विपक्षी दलों को एकजुट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

संसद से लेकर सड़कों तक विपक्षी दलों ने सर्वसम्मति से तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया-मार्क्‍सवादी, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल सहित 20 विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार को एक संयुक्त पत्र लिखकर इन तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की। इस बार भी कांग्रेस शीतकालीन सत्र में विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिश कर रही है। पार्टी ने यह जिम्मेदारी राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को सौंपी है।

Farmers Victory Day: देश के 62 करोड़ अन्नदाता की इच्छा शक्ति की जीत हुई- सोनिया गांधी

तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, करीब 12 महीने के शांतिपूर्ण विरोध के बाद आज देश के 62 करोड़ अन्नदाता, किसानों और खेत मजदूरों के संघर्ष और इच्छा शक्ति की आखिरकार जीत हुई है। सत्य, न्याय और अहिंसा के इस संघर्ष में अपने प्राणों की आहुति देने वाले 700 से ज्यादा किसान परिवारों के बलिदानों का भुगतान किया गया।

मुझे आशा है कि किसान कल्याणकारी नीतियों के कार्यान्वयन पर ध्यान देंगे, एमएसपी पर फसल उत्पादन सुनिश्चित करेंगे। दरों और भविष्य में केंद्र सरकार द्वारा ऐसा कोई भी कदम उठाने से पहले सभी राज्य सरकारों, किसान संगठनों और विपक्षी दलों को ध्यान में रखा जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.