Delhi Police:भड़काऊ भाषण देने के आरोप में दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष के खिलाफ देशद्रोह का मुकदाम दर्ज

0

Delhi Police:भड़काऊ भाषण देने के आरोप में दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष के खिलाफ देशद्रोह का मुकदाम दर्ज

Delhi Police:दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग(Minority commission)अध्यक्ष डॉ. जफरुल इस्लाम खान को दिल्ली पुलिस(Delhi Police)की स्पेशल सेल ने गुरुवार (30 अप्रैल) को देशद्रोह के तहत मामला दर्ज किया है। जफरुल इस्लाम ने दो दिन पहले 28 अप्रैल को अपने सोशल मीडिया(social media)पोस्ट में कथित तौर पर भड़काऊ बयान दिया था।

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष डॉ. जफरुल इस्लाम खान

स्पेशल सेल के संयुक्त आयुक्त (Joint Commissioner) नीरज ठाकुर ने कहा कि भारतीय आचार संहिता की धारा 124 ए  और 153 ए  के आधार पर प्राथमिकी (FIR) दर्ज की गई है।

डॉ. जफरुल इस्लाम खान ने 28 अप्रैल को भड़काऊ भांषण दिए थे

दिल्ली पुलिस(Delhi Police)के एफआईआर के मुताबिक, मामले में शिकायत कौशल कांत मिश्रा ने की है, जो की सेक्टर ए, वसंतकुंज नार्थ में रहते हैं। मिश्रा ने सफदरजंग थाना पुलिस को शिकायत दी थी। जिसमें उन्होंने कहा था कि, 28 अप्रैल 2020 को दिल्ली राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष डॉ. जफरुल इस्लाम खान ने एक भड़काउ पोस्ट फेसबुक और ट्विटर हैंडल पर डाली थी। जिससे समाज में वैमनस्यता फैल सकती थी। मामला गंभीर देखकर एसीपी सफदरजंग ने शिकायत दिल्ली पुलिस(Delhi Police) स्पेशल सेल थाने को भेज दी।https://www.delhipolice.nic.in/

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफरुल ने मांगी माफी

दिल्ली अल्पसंख्यक(Minority commission)आयोग के अध्यक्ष की ओर से इस पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। उन्होंने कहा, “मैंने एफआईआर नहीं देखा है। जब मैं इसे देखूंगा या फिर इसके बारे में मुझे पता चलेगा, तभी कुछ टिप्पणी करूंगा।”

इससे पहले, आयोग(Minority commission) के अध्यक्ष जफरुल इस्लाम खान ने 28 अप्रैल के अपने बयान को लेकर माफी मांगी है। उन्होंने बयान जारी कर कहा, “मेरा इरादा गलत नहीं था।” जफरुल इस्लाम ने कहा, “28 अप्रैल, 2020 को मेरे द्वारा जारी किए गए ट्वीट में उत्तर-पूर्वी जिले की हिंसा के संदर्भ में कुवैत को भारतीय मुसलमानों के उत्पीड़न पर ध्यान देने के लिए धन्यवाद दिया गया, कुछ लोगों को इससे पीड़ा हुई, जो कभी भी मेरा उद्देश्य नहीं था।”

Click Here To Download Arogya Setu Aap

उन्होंने कहा, “मुझे महसूस होता है जिस समय पूरा देश चिकित्सा के आपातकाल(Medical emergency) का सामना कर रहा है, उस समय मेरा ये ट्वीट असंवेदनशील(Insensitive)था, मैं उन सभी से माफी मांगता हूं, जिनकी भावनाएं आहत हुईं।” खान ने आगे कहा, “मैंने मीडिया के एक हिस्से को गंभीरता से लिया है जिसने मेरे ट्वीट को विकृत कर दिया और मुझे उन चीजों के लिए जिम्मेदार ठहराया जो मैंने कभी नहीं कहा। जरूरत पड़ी तो आगे कानूनी कदम उठाए जाएंगे।”

बता दें कि, डॉ. जफरुल इस्लाम खान ने 28 मार्च को सोशल मीडिया(social media)के जरिये तमाम आपत्तिजनक बयान दिये थे। उनके इन बयानों पर देश में एक बहस सी छिड़ गयी थी। तमाम लोगों ने इन बयानों को भड़काऊ और समाज में अशांति फैलाने(Unrest in society)वाला करार दिया था।

अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: