Delhi Government: दिल्ली में बस यात्रा अब होगी मुफ्त

0
149
Delhi Government
Delhi Government

Delhi Government: भाईदूज पर्व के अवसर पर मंगलवार को दिल्ली की महिलाओं के दिल्ली सरकार ने बड़ा नियम लागू कर दिया जिससे महिलाओं की बल्ले-बल्ले हो गई। दिल्ली सरकार ने मंगलवार से दिल्ली की डीटीसी और क्लस्टर स्कीम बसों में महिलाओं की मुफ्त यात्रा मुहैया कराने की स्कीम शुरू कर दी गई है, इस योजना के तहत अब दिल्ली में महिलाओं को बसों में टिकट लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

दिल्ली सरकार के द्वारा लिया गया ये फैसला 29 अक्टूबर, 2019 मंगलवार से लागू हो गया। जब से महिलाओं को पता चला कि अब उनको बसों में किराया नहीं देना पड़ेगा तो तब से दिल्ली की महिलाएं बहुत खुश हैं। सरकार की इस योजना से रोज बस में सफर करने वाली महिलाओं को बहुत फायदा होगा।

नागलोई की रहने वाली सरिता जो डेली नागलोई से आजादपुर काम करने जाती हैं जब वो सुबह बस में चढ़ीं और उनको पता चला कि आज से उनको बस का किराया नहीं देना पड़ेगा तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा, सरिता ने कहा कि इस योजना से उनके जैसी हजारों कामगार महिला जो डेली बस से सफर करके काम करने जाती हैं उनका काफी पैसा बच जाएगा।

महिला ने बतााय कि कभी कभी पैसे नहोने की वजह से उनको पैदल ही जाना पड़ता था लेकिन अब वो पैदल नहीं चलेंगी क्योंकी केजरीवाल सरकार ने ये योजना शुरू करके उनकी सारी समस्याएं दूर कर दी हैं।

सुबह बस में सवार होने पर सरिता को बस कंडक्टर ने एक गुलाबी रंग का पेपर टोकन जारी किया और बताया कि उसे कोई पैसा नहीं देना है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि सार्वजनिक बसों में महिलाओं के लिए मुफ्त सवारी योजना वरिष्ठ नागरिकों और छात्रों के लिए भी बढ़ाई जा सकती है। महिलाओं के लिए मुफ्त सवारी आप सरकार के उन वादों में से एक है, जोकि पार्टी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले किया था।

योजना के अनुसार, कंडक्टर मुफ्त यात्रा के लिए महिला यात्रियों को 10 रुपये के अंकित मूल्य के साथ गुलाबी टिकट वितरित करेंगे। जारी किए गए टिकटों के आधार पर सरकार ट्रांसपोर्टरों को पैसा लौटाएगी।


आप सरकार ने अब तक 1.5 करोड़ गुलाबी पास छपवाए हैं, जिनमें महिला सशक्तिकरण पर एक संदेश छपा है। दिल्ली की मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्विट करके कहा ‘आज सुबह से दिल्ली में महिलाओं की बस यात्रा मुफ्त हो गई है। महिला सुरक्षा, सशक्तिकरण और अर्थव्यवस्था में महिलाओं की हिस्सेदारी को बढ़ाने की ओर ये एक ऐतिहासिक कदम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here