Covid-19 Vaccine Gap: एनटीएजीआई ने की कोविशील्ड वैक्सीन की दोनो डोज के बीच में 8 से 12 हफ्ते के अंतराल की शिफारिश

Covid-19 Vaccine Gap: देश में अबतक 1,81,21,11,675 लोगों को कोरोना की दोनो डोज लगी

0

Covid-19 Vaccine Gap: बीते दो साल से भी ज्यादा समय से कोरोना महामारी से जूझ रही पूरी दुनियां में अब कोरोना की रफ्तार थोड़ी धीमी पड़ी है, और ऐसा कोरोना वैक्सीन के कारण ही हुआ है। भारत में भी कोरोना वायरस का संक्रमण कम हुआ है। भारत में भी कीटाकरण अभियान को युद्ध स्तर पर चलाया गया है। भारत में कोरोना की दोनो डोज के बीच के अंतराल पर एनटीएजीआई ने सिफारिश की है। आपको बता दें, भारत में कोविशील्ड वैक्सीन की दोनो डोज के बीच में 8 से 12 हफ्ते के अंतराल की शिफारिश एनटीएजीआई ने की है। इस वक्त कोविशील्ड वैक्सीन की दोनो डोज के बीच में 12 से 16 हफ्ते का अंतराल रखा जाता है।

ये भी पढ़ें- UP BJP Legislature Party Meeting: 24 मार्च को होगी बीजेपी की विधायक दल की बैठक, अमित शाह को बनाया गया पर्यवेक्षक

Covid-19 Vaccine Gap: एनटीएजीआई कोविशील्ड वैक्सीन को लेकर कही ये बात

Covid-19 Vaccine Gap
Covid-19 Vaccine Gap

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एनटीएजीआई (National Technical Advisory Group on Immunisation) ने  इस बाबत कहा है कि “एनटीएजीआई की नवीनतम सिफारिश प्रोग्रामेटिक डेटा से प्राप्त हालिया वैश्विक साइंटिफिक सबूतों पर आधारित है।” इसके मुताबिक जब कोविशील्ड की दूसरी डोज आठ सप्ताह बाद दी जाती है तो शख्स में एंटीबॉडी प्रतिक्रिया करीब 12 से 16 सप्ताह के अंतराल पर प्रशासित होने के बराबर ही होती है।”

Covid-19 Vaccine Gap: दोश में 1,81,21,11,675 लोगों को कोरोना की दोनो डोज

Covid-19 Vaccine Gap
Covid-19 Vaccine Gap

आपको बता दें, एनटीएजीआई (National Technical Advisory Group on Immunisation) भारत की एक ऐसे संस्था है जो वैक्सीन से रोकथाम वाली बिमारियों के प्रभाव को नियंत्रित करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को दिशानिर्देश देती हैस जिसके आधार पर देश में टीकाकरण अभियान चलाए जाते हैं। बता दें, बते  3 मई, 2021 को एनटीएजीआई की सिफारिशों के आधार पर ही भारत में कोरोना की कोविशील्ड वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज के बीच के समय को 6 से 8 हफ्ते से बढ़ाकर 12 से 16 हफ्ते किया गया था। देश में अबतक 1,81,21,11,675 लोगों को कोरोना की दोनो डोज दी जा चुकी है।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.