Corornavairus : सीवेज वाटर में मिला कोरोना वायर,पीजीआई में हुई जांच

0

Corornavairus : उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस को प्रकोप कम होने लगा है। लेकिन अब कोरोना का संक्रमण इंसानो के साथ पानी में फैलने खबर आने से लोगों के होश उड़ गए है। दरसल लखनऊ के गोमती नदी में गिर रहे खदरा स्थित सीवेज में कोरोना वायरस  मिला है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अध्ययन में पानी में भी कोरोना वायरस (Corornavairus) पाया गया है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अध्ययन में पानी में भी कोरोना वायरस पाया गया है।

ये भी पढ़ें- LOCKDOWN IN UP: उत्तर प्रदेश में एक बार फिर बढ़ाया लॉकडाउन, 31 मई तक रहेगी पाबंदी

इंसानों के बाद अब पनाी में मिला Corornavairus 

मुंबई के बाद लखनऊ के सीवर में कोरोना वायरस (Corornavairus) मिलने का यह पहला मामला है। पानी में कोरोना वायरस मिलने से प्रशासन में हड़कंप मच गया। लखनऊ पीजीआई के के माइक्रोबायोलॉजी विभाग की अध्यक्ष डॉ उज्जवला घोष ने बताया कि ICMR और WHO ने सीवेज सैंपलिंग करने को कहा है। उत्तर प्रदेश में भी सीवेज सैंपल लिए गए हैं। जिसमें कोरोना की पुष्टि हुई है। अब ये देखना जरूरी होगा कि पानी में फैले वायरस का मनुष्य पर कितना असर होगा, इस पर अध्ययन किया जा रहा है। यह अध्ययन एसजीपीजीआई का माइक्रोबायोलॉजी विभाग कर रहा है।

लखनऊ SGPGI के माइक्रोबायोलॉजी विभाग ने पानी में Corornavairus की पुष्टि की

डॉ. उज्ज्वला घोषाल के अनुसार डब्ल्यूएचओ की टीम ने पहले चरण में तीन स्थानों के नालों से सीवर के पानी का नमूना लिया है। लखनऊ के रुपपुर खदरा, घंटाघर और मछली मोहाल के नालों के पानी के सैंपल लिए गए थे। इन इलाकों का सीवर एक ही जगह गिरता है। 19 मई को जांच रिपोर्ट आई जिसमें खदरा से लिए गए सीवर के पानी के नमूने में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। डॉ. घोषाल ने बताया कि रिपोर्ट तैयार कर आईसीएमआर को भेज दिया गया है। संस्था इसे शासन से साझा करेगी।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को facebook Page पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.