CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan: सीडीएस जनरल विपिन रावत को मिलेगा पद्म विभूषण

CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan: कल्याण सिंह को भी मरणोपरांत पद्म विभूषण सम्मान

0

CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan: 25 जनवरी को मोदी सरकार ने भारत के सर्वोच्च सम्मान पद्म विभूषण पद्म भूषण और पद्मश्री पुरस्कारों की घोषणा कर दी है। बता दें, उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह और सीडीएस जनरल बिपिन रावत को मरणोपरांत पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इसके अलावा दो अन्य हस्तियों को भी पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। आपको बता दें, कला की क्षेत्र में प्रभा आत्रे को पद्म विभूषण पुरस्कार और  राधे श्याम खेमका को शिक्षा के लिए मरणोपरांत पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan
CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan

CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan: कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद को मिलेगा पद्म भूषण

 

ये भी पढ़ें- UP Election RPN Singh Joins BJP: आरपीएन सिंह ने छोड़ा कांग्रेस का हाथ, बीजेपी में हुए शामिल

CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan
CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan

आपको बता दें, पद्म भूषण पुस्कार की लिस्ट में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद का नाम शामिल है। इसके अलावा कला के क्षेत्र में किए गए कार्य के लिए विक्टर बैनर्जी और कला के ही क्षेत्र में अपने योगदान के लिए गुरमीत बावा को पद्म भूषण से सम्मानित किया जाएगा। साथ ही बुद्धदेब चैटर्जी का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है। जिन्हें सामाजिक कार्य के लिए पद्म भूषण पुरस्कार दिया जाएगा।

CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan: 1954 में हुई थी पद्म पुरस्कारों की शुरुआत

CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan
CDS Vipin Rawat Awarded Padma Vibhushan

ये भी पढ़ें- High Alert In Delhi: गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली पुलिस ने जारी की कुछ आतंकियों की फोटो

आपको बता दें, पद्म भूषण, पद्म विभूषण और पद्मश्री पुरस्कार देश का सर्वोच्च  सम्मानित पुरस्कार है। पद्म विभूषण असाधारण और विशेष सेवा के लिए प्रदान किया जाता है। साथ ही पद्म भूषण उच्च कोटि की विशिष्ट सेवा के लिए दिया जाता है और पद्मश्री विशिष्ट सेवा प्रदान करने के लिए दिया जाता है। हर साल देश के राष्ट्रपति इन पुरस्कारों को प्रदान करते हैं। पद्म पुरस्कारों की शुरुआत 1954 में हुई थी। तब से प्रतिवर्ष इन पुरस्कारों को अलग अलग क्षेत्र में देश के लिए किए गए योगदान के लिए महान हस्तियों को दिया जाता है।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.