Case registered against IPS officer: यूपी में आईपीएस ऑफिसर पर बैंकर को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप, मामला दर्ज

0

Case registered against IPS officer: पूर्व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) आशीष तिवारी पर एक महिला बैंकर को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया है, जो शनिवार को अयोध्या में अपने किराए के कमरे की छत से लटकी मिली थी। मृतक 32 वर्षीय श्रद्धा गुप्ता पंजाब नेशनल बैंक में डिप्टी ब्रांच मैनेजर थीं।

Case registered against IPS officer

Case registered against IPS officer: पुलिस कांस्टेबल पर भी आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज

शनिवार की देर शाम फैजाबाद कोतवाली थाने में मृतक बैंकर के पिता राजकुमार गुप्ता के शिकायत दर्ज कराने के बाद तिवारी के साथ एक पुलिस कांस्टेबल अनिल रावत और बलरामपुर निवासी विवेक गुप्ता पर भी आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया है।

Case registered against IPS officer: मृतका ने सुसाइड नोट में दो पुलिस कर्मी समेत विवेक गुप्ता को ठहराया जिम्मेदार

पहले आरोपी विवेक गुप्ता की शादी बैंकर से होनी थी, लेकिन पिछले साल अप्रैल में श्रद्धा के उसके चरित्र पर सवाल उठाने के बाद सगाई तोड़ दी गई थी। तीनों आरोपियों का नाम श्रद्धा ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है, जिसे पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजे जाने के कुछ घंटों बाद बरामद किया था।

बैंकर ने सुसाइड नोट में स्पष्ट रूप से दावा किया था कि उसकी आत्महत्या के लिए दो पुलिसकर्मी और विवेक गुप्ता जिम्मेदार हैं। पुलिस के अनुसार, श्रद्धा 2015 में पीएनबी में क्लर्क के रूप में शामिल हुईं और 2018 में एक अधिकारी बनने के लिए रैंकों के माध्यम से आगे बढ़ीं।

Case registered against IPS officer: दूधवाले ने सबसे पहले खटखाया दरवाजा, छत से लटकी मिली लाश

वह फैजाबाद में बैंक शाखा से सटे किराए के मकान में अकेली रहती थी। शनिवार की सुबह जब दूधवाले ने श्रद्धा का दरवाजा खटखटाया और कोई जवाब नहीं मिला तो उसने मकान मालिक को सूचना दी। बार-बार दस्तक देने के बाद भी कोई जवाब नहीं मिलने पर मकान मालिक ने बगल की खिड़की से झांका तो पाया कि वह छत से लटकी हुई है।

ये भी पढ़ें-   Amit Shah’s Lucknow visit: अमित शाह आज करेंगे लखनऊ का दौरा, मिशन 2022 चुनाव के लिए देंगे मंत्र

अयोध्या के एसएसपी शैलेश पांडे ने पुष्टि की है कि प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और जांच जारी है। इस बीच, समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। उन्होंने कहा, अयोध्या में पीएनबी की महिला कर्मचारी ने अपने सुसाइड नोट में जिस तरह से पुलिस कर्मियों पर सीधे आरोप लगाए हैं, वह उत्तर प्रदेश की खराब कानून व्यवस्था की एक कड़वी सच्चाई है। यह एक बहुत ही गंभीर मुद्दा है कि एक आईपीएस अधिकारी का नाम भी सामने आ रहा है। इसकी उच्च स्तरीय न्यायिक जांच होनी चाहिए।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.