BJP leader Yogesh Varshney : CM ममता बनर्जी पर 11 लाख का इनाम रखने वाले BJP नेता को गिरफ्तार करने गई बंगाल पुलिस के साथ अलीगढ़ में मारपीट

0

BJP leader Yogesh Varshney : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के ऊपर 11 लाख रुपए का इनाम रखने वाले BJP नेता योगेश वार्ष्णेय को गिरफ्तार करने गई बंगाल पुलिस के साथ अलीगढ़ में हाथापाई हुई। स्थानीय पुलिस ने बीच बचाव करते हुए बंगाल पुलिस टीम को सुरक्षित स्थान पर ले गई है। सादे कपड़े में घर में घुसे दो पुलिसकर्मियों पर महिलाओं से अभद्रता और मारपीट करने का आरोप है।

ये भी पढ़ें-Ayoddhya Ram Mandir: राम भक्तों के लिए खुशखबरी, दिसंबर 2023 से भक्त कर सकेंगे राम मंदिर के दर्शन

BJP leader Yogesh Varshney को गिरफ्तार करने आई पुलिस के साथ कि गई मारपीट

अलीगढ़ (Aligarh) के गांधीनगर निवासी बीजेपी नेता (BJP leader Yogesh Varshney) योगेश वार्ष्णेय की गिरफ्तारी और कुर्की का नोटिस चस्पा करने के लिए कोलकाता बंगाल पुलिस शुक्रवार को अलीगढ़ पहुंची। इसकी जानकारी जैसे ही भाजपा कार्यकर्ताओं को हुई वो योगेश के घर पहुंच गए। जिसके बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस टीम के बीच धक्कामुक्की और मारपीट हुई। मौके पर पहुंचे सांसद और विधायकों ने किसी तरह लोगों को शांत कराया और आश्वासन दिया कि किसी भी कीमत पर योगेश को पश्चिम बंगाल पुलिस को नहीं ले जाने दिया जाएगा।

BJP leader Yogesh Varshney

BJP leader Yogesh Varshney ने ममता बनर्जी का सिर लेकर आने वाले को 11लाख इनाम देने की थी घोषणा

एक घंटे तक चले हंगामें के बाद स्थानीय पुलिस ने किसी तरह पश्चिम बंगाल के दोनों पुलिसकर्मियों को बचाकर मौके से ले गई। बता दें कि ये पूरा मामला अगस्त 2017 का है। जब पश्चिम बंगाम के वीरभूमि जिले में हनुमान जयंती के दिन जुलूस निकालते हुए हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। जिसके बाद युवा बीजेपी नेता योगेश ने लाठीचार्ज के लिए सीएम ममता बनर्जी को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके सिर लेकर आने वाले को 11 लाख रुपए इनाम देने की घोषणा कर दी थी।

बंगाल पुलिस के ऊपर BJP leader Yogesh Varshney के घर की महिलाओं से अभद्रता और मारपीट करने का आरोप

मामले में वीरभूमि के टीएमसी नेता ने योगेश के खिलाफ केस दर्ज कराया था। जिसके बाद पश्चिम बंगाल पुलिस योगेश को गिरफ्तार करने आई थी। लेकिन उस समय भी बीजेपी नेताओं ने योगेश वार्ष्णेय को गिरफ्तार करने नहीं दिया था।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.