बिहार: रोजगार की मांग कर रहे वामपंथी छात्रों पर लाठी चार्ज, वॉटर कैनन का भी इस्तेमाल

नौकरी की मांग को लेकर सोमवार को वामपंथी दलों के छात्र संगठनों ने बिहार की राजधानी में जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान विधानसभा मार्च कर रहे छात्रों और युवाओं पर काबू पाने के लिए पुलिस को पहले वॉटर कैनन का इस्तेमाल करना पड़ा

0

पटना:  नौकरी की मांग को लेकर सोमवार को वामपंथी दलों के छात्र संगठनों ने बिहार की राजधानी में जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान विधानसभा मार्च कर रहे छात्रों और युवाओं पर काबू पाने के लिए पुलिस को पहले वॉटर कैनन का इस्तेमाल करना पड़ा और फिर भीड़ को तितर-बितर करने के लिए बल का प्रयोग किया।

पुलिस के मुताबिक, सबको शिक्षा और सबको रोजगार की मांग को लेकर वामपंथी दल के छात्र संगठन आईसा सहित कई संगठन के लोग गांधी मैदान से रैली लेकर विधानसभा का घेराव करने निकले। इसी क्रम में जे पी गोलंबर के पास पुलिस प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों को रोक दिया।

बैरिकेडिंग करने के बावजूद प्रदर्शनकारी आगे बढ़ने की कोशिश करने लगे। पुलिस उन्हे पहले समझाने की कोशिश की फिर जब वे नहीं माने तब वाटर कैनन का इस्तेमाल किया गया। अंत में पुलिस को प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए लाठी चार्ज करना पड़ा। इस बीच, जेपी गोलंबर पर अफरा-तफरी मच गई।

लाठीचार्ज में कई प्रदर्शनकारी घायल हुए हैं, जबकि कई पुलिसकर्मियों को भी चोटें आई हैं।

वामपंथी कार्यकर्ताओं ने कहा कि बिहार सरकार अब अपने चुनावी वायदे से पीछे भाग रही है। राजग की ओर से बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान प्रदेश के युवाओं को 19 लाख नौकरी दिए जाने का वायदा किया गया था, जिसे अब वह भूल गई है।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि प्रदर्शन में शिक्षा और रोजगार का मुद्दा था, सरकार को छात्र-युवाओं के प्रतिनिधिमंडल को बुलाकर उनसे वार्ता करनी चाहिए थी, लेकिन इसके उलट प्रदर्शन पर आंसू गैस के गोले दागे गए, पानी की बौछार की गई और युवाओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया।

प्रशासन ने गांधी मैदान से उनके मार्च को जेपी चैक से आगे बढ़ने तक नहीं दिया। पुलिस के लाठीचार्ज में कई युवाओं के सिर फट गए और कई लोग बुरी तरह घायल हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.