बिहार : मंत्रियों के ‘दागी’ होने के आरोप पर भाजपा, जदयू ने तेजस्वी को दिखाया आईना

राजद नेता तेजस्वी यादव शुक्रवार को एडीआर की रिपोर्ट लेकर विधानसभा पुहंचे और दागी मंत्रियों की सूची विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा को सौंपी।

0
पटना: बिहार में अब ‘दागी’ को लेकर सियासत जोरों पर है। बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव जहां मंत्रिमंडल में 64 प्रतिशत दागी मंत्रियों को लेकर सत्तापक्ष पर लगातार निशाना साध रहे हैं, वहीं अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जदयू ने भी उन्हें आईना दिखाया है।

राजद नेता तेजस्वी यादव शुक्रवार को एडीआर की रिपोर्ट लेकर विधानसभा पुहंचे और दागी मंत्रियों की सूची विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा को सौंपी। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश मंत्रिमंडल में 64 प्रतिशत मंत्री दागी हैं।

ये भी पढ़ें- Delhi: राजधानी दिल्ली दुनिया के प्रदूषित शहरों में से दसवें स्थान पर

यादव ने कहा कि दो दिन पहले जब उन्होंने सदन में दागी मंत्रियों का जिक्र किया था तब विधानसभा अध्यक्ष ने तथ्य की मांग की थी। इस वजह से मैंने वैसे मंत्रियों की सूची सौंप दी है।

उन्होंने कहा कि एडीआर रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि 31 मंत्रियों में से 18 यानी 64 प्रतिशत मंत्रियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। 18 में 14 मंत्री पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। इधर, तेजस्वी के इस बयान के भाजपा और जदयू ने उन्हें आईना दिखाया है।

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने कहा कि विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव जो खुद 1000 करोड़ के मॉल के मामले में अभियुक्त हैं और जमानत पर हैं, वे किस मुंह से बिहार के मंत्रियों पर आरोप लगा रहे हैं?

उन्होंने कहा, “तेजस्वी यादव और उनकी मां राबड़ी देवी सहित परिवार के कई सदस्यों के खिलाफ जांच एजेंसियां आरोप पत्र दायर कर उनकी दो दर्जन से ज्यादा सम्पत्ति जब्त कर चुकी हैं। कोरोना के कारण यदि कानूनी प्रकिया में बाधा न पड़ती, तो तेजस्वी यादव सदन में नहीं, पिता की तरह जेल में हो सकते थे। राजद की सारी आक्रामकता अपने अपराध को छिपाने के लिए है।”

जदयू के प्रवक्ता और विधान पार्षद संजय सिंह ने कहा कि तेजस्वी यादव जिस एडीआर की रिपोर्ट का हवाला दे रहे हैं, उसके मुताबिक उनके 75 में से 54 विधायक अपराधिक मामलों में संलिप्त हैं, जिसमें से 44 विधायकों पर गंभीर अपराधिक मामले दर्ज हैं। उन्होंने कहा कि कई मामलों में तो खुद तेजस्वी यादव आरोपी हैं।

उल्लेखनीय है कि विधनसभा अध्यक्ष ने भी शुक्रवार को सदन में कहा था कि एडीआर की रिपोर्ट में यहां बैठे कोई भी नहीं बच पाएगा। उन्होंने कहा कि इसमें तो ऐसे लोग भी शामिल हैं जिनपर चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन का आरोप है।

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: