Bharat Biotech Co vaccine: भारत बायोटेक के कोवैक्सीन को WHO 24 घंटे के भीतर दे सकता है आपातकालीन उपयोग की मंजूरी

0

Bharat Biotech Co vaccine: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) भारत बायोटेक के कोवैक्सीन (Bharat Biotech Co vaccine) को ’24 घंटे के भीतर’ आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दे सकता है। डब्ल्यूएचओ की प्रवक्ता मार्गरेट हैरिस ने यूएन प्रेस ब्रीफिंग में कहा, “अगर सब कुछ ठीक रहा और अगर समिति संतुष्ट है, तो हम अगले 24 घंटों के भीतर एक सिफारिश की उम्मीद करेंगे।”

Bharat Biotech Co vaccine

Bharat Biotech Co vaccine:  वैक्सीन के पूरी तरह से मूल्यांकन की प्रक्रिया में लंबा समय लग सकता है

हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने 19 अप्रैल को कोवैक्सीन की आपातकालीन उपयोग सूची (EUL) के लिए डब्ल्यूएचओ को आवेदन किया था। डब्ल्यूएचओ ने पहले कहा था कि यह ईयूएल को यह निर्धारित करने के लिए जोखिम और लाभ आकलन करेगा कि निर्मित टीका गुणवत्ता-आश्वासन, सुरक्षित और प्रभावी है या नहीं।

कंपनी ने 27 सितंबर को डब्ल्यूएचओ के अनुरोध पर अतिरिक्त जानकारी भी प्रस्तुत की। पिछले हफ्ते, डब्ल्यूएचओ के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि वैक्सीन के पूरी तरह से मूल्यांकन की प्रक्रिया में लंबा समय लग सकता है, लेकिन सही सलाह देना आवश्यक है।

Bharat Biotech Co vaccine: WHO ने अब तक अपनी EUL सूची में केवल 6 कोविड टीकों को शामिल किया है

डब्ल्यूएचओ स्वास्थ्य आपात स्थिति कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक डॉ. माइक रयान ने कहा था, “विश्व स्वास्थ्य संगठन बहुत स्पष्ट है। हम चाहते हैं कि सभी देश उन टीकों को पहचानें, जिन्हें डब्ल्यूएचओ सलाहकार प्रक्रिया द्वारा आपातकालीन उपयोग सूची (ईयूएल) दी गई है। लेकिन यह भी बहुत महत्वपूर्ण है कि डब्ल्यूएचओ, जब वह इस तरह की सिफारिश करता है, इसे विश्व स्तर पर बना रहे हैं।”

ये भी पढ़ें-  UP CM Yogi Adityanath: पिछली सरकारों ने बिगाड़ी थी यूपी की छवि, हमने दिलाई सम्मानजनक पहचान : सीएम योगी

डब्ल्यूएचओ की मंजूरी उन लाखों भारतीयों के लिए महत्वपूर्ण है, जिन्होंने विदेश यात्रा के लिए कोवैक्सीन ली है। डब्ल्यूएचओ की मंजूरी के बिना दो-खुराक वाले कोवैक्सीन को दुनियाभर के देशों द्वारा एक वैध वैक्सीन के रूप में स्वीकार किए जाने की संभावना नहीं है। डब्ल्यूएचओ ने अब तक अपनी ईयूएल सूची में केवल छह कोविड टीकों को शामिल किया है, जिसमें ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन शामिल है, जिसे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा कोविशील्ड के रूप में निर्मित किया गया है।

खबरों के साथ बने रहने के लिए प्रताप किरण को फेसबुक पर फॉलों करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.