रूस के वैक्सीन पर अमेरिका को संदेह

कोरोना का पहला टीका बनाने की जगह प्रभावी और सुरक्षित टीका बनाना ज्यादा महत्वपूर्ण है

0

कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग में वैक्सीन बनाने की मैराथन कोशिश जारी है। इस बाबत रूस ने बीते मंगलवार को ही कहा था कि उन्होने कोरोना की वैक्सीन तैयार कर ली है। इस बात की घोषणा करते हुए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा था कि उनके देश ने कोरोना वायरस के खिलाफ दुनिया का पहला टीका विकसित कर लिया है। रूस के इस दावे पर अब अमेरिका ने आपत्ती जताई है।

बता दें एक दूसरे के धुर विरोधी रहे रूस और अमेरिका कोरोना वैक्सीन को लेकर भी आमने-सामने हैं। रूस के राष्ट्रपति पुतिन की घोषणा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अमेरिका के स्वास्थ्य मंत्री एलेक्स अजार ने कहा है कि कोरोना वायरस का पहला टीका बनाने की जगह कोरोना वायरस के खिलाफ एक प्रभावी और सुरक्षित टीका बनाना ज्यादा महत्वपूर्ण है। ये बातें अमेरिकी स्वास्थ्य मंत्री एलेक्स अजार ने अपने ताइवान की यात्रा के दौरान कही।

अपको बता दें स्वास्थ्य मंत्री एलेक्स अजार ने कहा, ‘‘विषय पहले टीका बनाने का नहीं है. विषय ऐसा टीका बनाने का है जो अमेरिकी लोगों और विश्व के लोगों के लिए सुरक्षित तथा प्रभावी हो।’’ उन्होंने कहा कि टीके की सुरक्षा और इसके प्रभाव को साबित करने के लिए पारदर्शी डेटा का होना महत्वपूर्ण है।

वहीं दूसरी ओर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने रूस के कोरोना वैक्सीन से जुड़ी स्वास्थ्य चिंताओं के बीच कहा कि वो कोविड-19 का टीका बनाने के लिए अंतरराष्ट्रीय दिशा-निर्देशों का पालन करें। रूस का टीका विश्व स्वास्थ्य संगठन के उन छह टीकों की सूची में नहीं है जो तीसरे चरण के परीक्षण की स्थिति में पहुंच चुके हैं।

बता दें विश्वभर में कोरोना वायरस से अबतक 2.02 करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं। 7.39 लाख लोग अपनी जान गवां चुके हैं। वहीं 1.25 करोड़ लोग ठीक हो चुके हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: