डिमेंशिया का कारण बन रहा है वायु प्रदूषण- ब्रिटिश विशेषज्ञ

0

लंदन: हम जानते हैं कि प्रदूषित और गंदी हवा में लंबे समय तक सांस लेना फेफड़ों और दिल के लिए गंभीर रूप से हानिकारक है, लेकिन अब ब्रिटिश विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि वायु प्रदूषण से डिमेंशिया भी बढ़ सकता है।

यह शोध ग्रेट ब्रिटेन में ‘वायु प्रदूषण के चिकित्सा प्रभावों पर समिति’ (COMEAP) के विशेषज्ञों द्वारा किया गया था। ब्रिटिश सरकार के वैज्ञानिक सलाहकारों ने कहा है कि वायु प्रदूषण के लंबे समय तक संपर्क में रहने से डिमेंशिया का खतरा बढ़ जाता है।


वायु प्रदूषण मनोभ्रंश का कारण बन सकता है। प्रदूषण पहले ही हृदय, फेफड़े और अन्य अंगों के लिए हानिकारक साबित हो चुका है।


इसे बाकायदा एक औपचारिक रिपोर्ट में प्रकाशित किया गया है, जिसमें 70 जांचों का सार है। विशेषज्ञों का कहना है कि उम्र बढ़ने से मानसिक क्षमता प्रभावित होती है और वायु प्रदूषण इस प्रक्रिया को तेज कर सकता है और मनोभ्रंश का कारण बन सकता है। प्रदूषण पहले ही हृदय, फेफड़े और अन्य अंगों के लिए हानिकारक साबित हो चुका है।


2018 में यूके में 209,600 डिमेंशिया के मामलों सामने आये थे जिनमें से 60,000 को खराब हवा के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।


सलाहकारों में इंपीरियल कॉलेज के फ्रैंक केली हैं, जो तीन साल से इस पर विचार कर रहे हैं। उनके अनुसार, डिमेंशिया यानि मनोभ्रंश 21वीं सदी की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है, वैश्विक दर में वृद्धि के साथ, लेकिन समिति ने स्वीकार किया कि सबूतों के बावजूद, डेटा की कमी के कारण, वायु प्रदूषण और मनोभ्रंश से प्रभावित लोगों की सही संख्या निर्धारित नहीं हो सकती है। उनके अनुसार, 2018 में पूरे यूके में 209,600 डिमेंशिया के मामलों में से 60,000 को खराब हवा के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

वायु प्रदूषण तीन तरह से प्रभावित करता है। सबसे पहले, प्रदूषण के कण बारीक रक्त वाहिकाओं को गंभीर रूप से प्रभावित करते हैं। दूसरे मस्तिष्क को रक्त की आपूर्ति प्रभावित होती है। तीसरा मस्तिष्क की कोशिकाएं गंभीर रूप से प्रभावित होती हैं और रोगी मनोभ्रंश की ओर तेजी से बढ़ता है। जानवरों पर किए गए प्रयोगों से भी यह बात सामने आई है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.